इंदौर की स्टार्टअप शेयर बाजार से पूंजी जुटाएगी

जिस प्रकार अमेरिका में कैलिफोर्निया में विश्व के सर्वाधिक स्टार्टअप रजिस्टर्ड होते हैं वैसा ही माहौल धीरे-धीरे इंदौर में बनता जा रहा है जो कि देश ही नहीं अपितु विश्व पटल पर बहुत तेजी से उभरता जा रहा है।

इंदौर: ग्लोबल फोरम फॉर इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट एवं नेशनल स्टॉक मार्केट के तत्वावधान में आयोजित परिचर्चा में इंदौर के सांसद एवं राष्ट्रीय एमएसएमई कमेटी के मेंबर शंकर लालवानी ने कहा कि देश में पहली बार स्टार्टअप पॉलिसी बनी है। जिसकी शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंदौर शहर से की है। यहां शहर और प्रदेश के ही नहीं अपितु संपूर्ण भारतवर्ष से युवा उद्यमी रहे हैं और अपने अपने वेंचर शुरू कर रहे हैं। यहां पर सैकड़ों की संख्या में स्टार्टअप रजिस्टर्ड हुए हैं और आने वाले समय में इनकी कई गुना वृद्धि होगी। उनकी पूंजी की जरूरतों को पूरा करने के लिए स्टॉक मार्केट से बड़ी मात्रा में पूंजी जुटाई जा सकती है छोटे आइडिया या छोटे उद्योग को शेयर बाजार से जोड़कर अंतरराष्ट्रीय मार्केट में कई गुना बड़े प्रोजेक्ट बनाए जा सकेंगे ।

Must Read- Indian Railways: 31 मई को नहीं चलेगी ट्रेनें, जाने क्या है वजह

संस्था के अध्यक्ष दीपक भंडारी ने बताया कि जिस प्रकार अमेरिका में कैलिफोर्निया में विश्व के सर्वाधिक स्टार्टअप रजिस्टर्ड होते हैं वैसा ही माहौल धीरे-धीरे इंदौर में बनता जा रहा है जो कि देश ही नहीं अपितु विश्व पटल पर बहुत तेजी से उभरता जा रहा है। एनएससी के वाइस प्रेसिडेंट आशीष गोयल ने किस प्रकार से सुक्षम मध्यम एवं लघु उद्योगों को पूंजी की आवश्यकताओं को पूरा करने के उपाय बताएं एवं आधुनिक तरीके से अत्यधिक मात्रा में शेयर बाजार के अलावा भी वेंचर कैपिटललिस्ट एवं एंजल इन्वेस्टर्स के द्वारा पूंजी जुटाई जा सकती है ।

Must Read- गोवंश से भरे ट्रक में दरिंदों ने लगाई आग, गाय बछड़ों की जिंदा जलकर हुई मौत

सुनील न्याति ने छोटी कंपनियों को किस प्रकार से मार्केट में आना चाहिए और किस प्रकार से औपचारिकताओं को पूरा करते हुए स्टॉक मार्केट में लिस्टिंग किया जाता है उसके बारे में जानकारी दी । पीएन शेट्टी ने भी मर्चेंट बैंकर एवम लीड मैनेजर के विभिन्न स्त्रोतों के बारे में बताया। मीटिंग में 200 से ज्यादा इन्वेस्टर उद्योगपति अविष्कारक इंपोर्टर एक्सपोर्टर सर्विस प्रदाता विभिन्न यूनिवर्सिटी एवं कॉलेज के डायरेक्टर प्रोफेसर चार्टर्ड अकाउंटेंट कंपनी सेक्रेट्री टैक्स कंसलटेंट एवं बैंकों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। संचालन अमित पमनानी ने किया संस्था की ओर से डॉ शरद जोशी, अनिल खारिया, देव लाल शर्मा, मनीष त्रिवेदी, दिनेश वाधवा एवं मनीषा उपस्थित रहे।

Source : PR