Election Analysis : प. प्रदीप मिश्रा का आशीर्वाद भी नहीं दिला सका जीत, पार्षद का चुनाव हारी प्रीति गोलू अग्निहोत्री

प्रसिद्ध कथावाचक पंडित प्रदीप मिश्रा के द्वारा आशीर्वाद मिलने के बाद भी प्रीति गोलू अग्निहोत्री पार्षद के पद का चुनाव हार गईं। दो बार पहले रह चुकी हैं पार्षद प्रीति अग्निहोत्री। इस बार लगभग 1179 मतों से वो यह पार्षद का चुनाव हार गईं।

इंदौर (Indore) में नगर निगम चुनाव (Municipal Elections) के नतीजे सामने आ चुके हैं। जहां महापौर का एकलौता पद भारतीय जनता पार्टी के महापौर प्रत्याशी पुष्यमित्र भार्गव को प्राप्त हुआ वहीं वार्डों के पार्षदों के सभी पदों पर मिले जुले नतीजे सामने आए हैं। इस दौरान कई चौकाने वाले नतीजे भी सामने आए हैं जिनमें कई ऐसे प्रत्याशी में चुनाव हार गए जिनकी जीत पूर्णतया निश्चित मानी जा रही थी।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Vishal Golu Agnihotri I (@vishalagnihotri.inc)

Also Read-इंदौर : राजबाड़ा से लगे आड़ा बाजार में कल रात एक दो मंजिला दुकान में लगी भीषण आग, लाखों का माल हुआ खाक

प. प्रदीप मिश्रा ने दिया था प्रीति गोलू अग्निहोत्री को पार्षद का चुनाव जीतने का आशीर्वाद, फिर भी हारीं

कहा जाता है कि ईश्वर की मर्जी के आगे कभी-कभी स्वयं ईश्वर की भी नहीं चलती तो मनुष्य क्या चीज है, फिर वो साधारण मानव हो या फिर प्रकांड पंडित। इसी आधार पर प्रसिद्ध कथावाचक पंडित प्रदीप मिश्रा के द्वारा आशीर्वाद मिलने के बाद भी प्रीति गोलू अग्निहोत्री पार्षद के पद का चुनाव हार गईं। जानकारी के अनुसार पंडित प्रदीप मिश्रा ने वीडिओ कॉल के माध्यम से पार्षद के चुनाव में जीत का आशीर्वाद प्रीति गोलू अग्निहोत्री को प्रदान किया था जिसके बावजूद उनकी हार उक्त चुनाव में हुई है । गौरतलब है कि इस बार कांग्रेस पार्टी के अग्निहोत्री परिवार के परिवारवाद की हार और भाजपा के जमीनी कार्यकर्त्ता की जीत हुई है। इसके साथ ही पुरे शहर में पार्षद पदों पर बीजेपी के प्रत्याशियों की जीत का प्रतिशत कांग्रेस प्रत्याशी की जीत के प्रतिशत से दो गुना से भी अधिक रहा है।

Also Read-उत्तर प्रदेश : नाग को मारने के बाद युवक की हुई संदिग्ध मौत, लोगों ने जताया नागिन पर बदला लेने के लिए डसने का शक

दो बार पहले रह चुकी हैं पार्षद प्रीति अग्निहोत्री

ज्ञातव्य है की प्रीति गोलू अग्निहोत्री दो बार पहले इंदौर नगर निगम में पार्षद रह चुकी हैं। लेकिन इस बार पंडित प्रदीप मिश्रा का आशीर्वाद भी उन्हें जीत का हार नहीं पहना सका और लगभग 1179 मतों से वो यह पार्षद का चुनाव हार गईं।