इंदौर : नागरिक सहकारी बैंक अब दि अकोला अर्बन बैंक के अधीन हुआ, इस आसान शर्तों पर देगी ऋण

अकोला बैंक की चारों शाखाओं के औपचारिक शुभारंभ के पश्चात आज इंदौर की पचास वर्ष पुरानी ख्यातनाम सहकारी बैंक नागरिक सहकारी बैंक लि. अधिकृत रूप से दि अकोला अर्बन को ऑपरेटिव बैंक में विलीन हो गई

इंदौर(Indore) : अकोला बैंक की चारों शाखाओं के औपचारिक शुभारंभ के पश्चात आज इंदौर की पचास वर्ष पुरानी ख्यातनाम सहकारी बैंक नागरिक सहकारी बैंक लि. अधिकृत रूप से दि अकोला अर्बन को ऑपरेटिव बैंक में विलीन हो गई, जिसके बाद अब यह एक मल्टी स्टेट शेडयूल्ड बैंक के रूप में भी जानी जाएगी। नेशनल फेडरेशन ऑफ अर्बन कोऑपरेटिव बैंक्स एंड क्रेडिट सोसाइटीज (एनएएफसीयूबी) के अध्यक्ष ज्योतिंद्र मेहता कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे।

Read More : सोनिया से ईडी की पूछताछ की कार्यवाही और राहुल गांधी की गिरफ्तारी के बाद इंदौर शहर से युवा कांग्रेस नेता गिरफ्तार

सहकारिता के स्तंभ और रिज़र्व बैंक के निदेशक सतीश मराठे और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मालवा प्रान्त के संघ चालक  प्रकाश शास्त्री ने भी अतिथि के रूप में कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। इस अवसर पर मेहता ने कहाकि इस क्रांतिकारी परिवर्तन के पश्चात बैंक तेजी से आगे बढ़कर नई ऊंचाइयां छूएगा। शास्त्री ने कहाकि न तो मैं बैंकर हूँ और न सहकारिता का ही जानकार फिर मुझे क्यों बुलाया होगा? बाद में समझ आया कि इस बैंक के अधिकांश कर्ताधर्ता हमारे अनुषंगी संगठन सहकार भारती से निकलकर आए हैं।

Read More : 19 विपक्षी सांसदों ने राज्यसभा में किया हंगामा, 1 सप्ताह के लिए सदन से बर्खास्त

बैंक के अध्यक्ष रामेश्वर फुंडकर ने कहाकि आज सभी बैंकों के पास फंड का आधिक्य है और अच्छे ऋणी तलाशना एक समस्या। हम इंदौर में नया कारोबार तलाशेंगे और आसान शर्तों पर ऋण देंगे। उनके साथ बैंक के उपाध्यक्ष शंतनु जोशी, मुख्य कार्यकारी अधिकारी राजन सोनटक्के और पूरा संचालक मंडल मौजूद रहा। कार्यक्रम का संचालन  प्रतिभा जोशी ने किया और आभार प्रदर्शन सोनटक्के ने किया। इस अवसर पर बैंक के शेयर धारक और ग्राहक बड़ी संख्या में उपस्थित रहे।