HomeदेशInd vs Pak: कालभैरव मंदिर में तंत्र पूजा, भारत के जीत की...

Ind vs Pak: कालभैरव मंदिर में तंत्र पूजा, भारत के जीत की हुई कामना

नई दिल्ली। T-20 वर्ल्ड कप की शुरुआत हो चुकी है और आज भारत का पहले रोमांचक मैच पाकिस्तान से होने वाला है। इस दौरान पूरे देश में भारत और पकिस्तान के मैच का बेसब्री से इंतजार हो रहा है। इसके लिए लोग खासा उत्साहित हैं। वहीं आज के मैच से पहले भारत की जीत के लिए पूरे देश में दुआवों का दौर शुरू हो चुका है। सभी जाति, धर्म और मजहब के लोग अपने- अपने तरीके से अपने देवी-देवताओं के यहां टीम इंडिया की जीत की कामना के लिए अर्जी लगा रहे है।

इसी कड़ी में अब उत्तरप्रदेश के काशी के कोतवाल बाबा कालभैरव के मंदिर में भी देखने को मिला है। यहां मंदिर में रविवार को दर्शन के विशेष महत्व के साथ तंत्र पूजन करके टीम इंडिया के लिए बाबा कालभैरव को प्रिय मदिरा भी चढ़ाई गई। गौरतलब है कि रविवार के दिन काशी के कोतवाल बाबा कालभैरव का दर्शन विशेष फलदायी होता है। अगर बाबा कालभैरव का विधि विधान से पूरे मंत्रोच्चार के साथ पूजन हो तो ये अच्छा होता है। बाबा कालभैरव को प्रिय मदिरा का भोग लगाया जाए तो सारे काम बन जाते है और मुरादे भी पूरी हो जाती है।

यह सब आज के मैच के लिए हो रहा है। बता दें कि, कालभैरव के गर्भगृह में भारतीय टीम के समर्थन के लिए तन्त्र पूजन किया गया। साथ ही गर्भगृह में विशेष पूजन के तहत भारतीय टीम के खिलाड़ियों के समर्थन में कालभैरव मंदिर के पुजारी भी शामिल हुए। पूजन की विधि शुरू करते हुए खिलाड़ियों के पोस्टर के साथ काल भैरव के सामने मंत्रोचार करते हुए बाबा के सिंदूर से विजय तिलक लगाया गया। साथ ही टीम की जीत के लिए कालभैरव को मदिरा भी चढ़ाई गयी।

साथ ही पुजारी संजय दुबे ने बताया कि इस विशेष पूजन से टीम इंडिया को सारी बाधा, कष्ट और बुरी नजर से मुक्ति मिलेगी। वहीं टीम इंडिया के प्रशंसक और बाबा कालभैरव के भक्त मनोज ने बताया कि बाबा से कामना की गई है कि जैसे पाकिस्तान के खिलाफ हमेशा वर्ड कप में विजय मिली है, वैसे ही इस बार भी ऐतिहासिक विजय हासिल हो। बाबा को मदिरा प्रिय है, इसलिए तांत्रिक पूजन विधि विधान से किया गया और मदिरा चढ़ाई गई। बाबा के दरबार से कोई खाली नहीं जाता इसलिए पूरी टीम के पोस्टर को लेकर आशिर्वाद दिलाया गया ताकि बाबा सारे कष्ट दूर करें।

RELATED ARTICLES

Stay Connected

9,992FansLike
10,230FollowersFollow
70,000SubscribersSubscribe

Most Popular