आईआईएम इंदौर ने एशिया विश्वविद्यालय ताइवान के साथ समझौता ज्ञापन पर किए हस्ताक्षर

इंदौर। आईआईएम इंदौर का उद्देश्य अपने प्रतिभागियों को प्रासंगिक और विश्व स्तरीय शिक्षा और पाठ्यक्रमों की पेशकश करना है। इस उद्देश्य के अनुरूप, संस्थान ने भारत और विदेशों में कई शीर्ष शैक्षणिक संस्थानों के साथ सहयोग किया है। सहयोग की इसी सूची में एक और नाम जोड़ते हुए संस्थान ने एशिया विश्वविद्यालय, ताइवान के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किए.

सामाजिक रूप से जागरूक नेताओं, प्रबंधकों और उद्यमियों को विकसित करना आईआईएम इंदौर का उद्देश्य

इस समझौता ज्ञापन पर आईआईएम इंदौर के निदेशक प्रो. हिमाँशु राय और एशिया विश्वविद्यालय, ताइवान के प्रेजिडेंट प्रो. जेफरी जे.पी. त्साई ने हस्ताक्षर किए। निदेशक प्रो. राय ने बताया कि इस समझौता ज्ञापन का उद्देश्य संयुक्त और दोहरी डिग्री पाठ्यक्रमों की पेशकश करना है जो दोनों विश्वविद्यालयों के विद्यार्थियों को लाभान्वित करते हैं। ‘हम एशिया विश्वविद्यालय, ताइवान के साथ सहयोग करके काफी हर्ष महसूस कर रहे। आईआईएम इंदौर का मिशन सामाजिक रूप से जागरूक नेताओं, प्रबंधकों और उद्यमियों को विकसित करना है। यह एशिया विश्वविद्यालय के आदर्श वाक्य के अनुरूप है – वैश्विक नागरिकों को विकसित करना, जिनके पास पेशेवर और मानवतावादी गुण, अच्छे चरित्र और दृष्टिकोण दोनों हैं.
उन्होंने कहा यह सहयोग छात्रों और शिक्षकों के आदान-प्रदान और शैक्षिक और प्रशिक्षण उद्देश्यों के लिए उपयोग किए जाने वाले अनुसंधान और शैक्षिक डेटा के आदान-प्रदान के लिए सहायक सिद्ध होगा। उन्होंने कहा, ‘हम स्कॉलर्स और छात्रों को व्याख्यानों, सम्मेलनों, संगोष्ठियों और कार्यशालाओं जैसी अकादमिक गतिविधियों में भाग लेने के लिए आमंत्रित करने के लिए उत्सुक हैं।’

Also Read: सैमसंग की नई फोल्डेबल स्माटफोन की बुकिंग भारत में हुई शुरू, फीचर जानकर हो जाएंगे हैरान
प्रो. त्साई ने आईआईएम इंदौर के साथ इस सहयोग पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा ‘तीन प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त करने वाले, भारत के एक प्रमुख बी-स्कूलों में से एक आईआईएम इंदौर के साथ सहयोग कर हम प्रसन्न हैं। यह सहयोग आपसी लाभ के लिए अनुभवों और विचारों के आदान-प्रदान की सुविधा पर ध्यान केंद्रित करेगा। उन्होंने कहा कि हम साझा हित के क्षेत्र में संयुक्त अनुसंधान की गतिविधियों को बढ़ावा देने की भी योजना बना रहे हैं। एमओयू पांच साल के लिए वैध होगा।