राजस्थान कांग्रेस में पिछले लम्बे समय से राजनीति में उतर चढ़ाव देखने को मिल रहे थे। लेकिन अब कयास लगाएं जा रहे है की दो मतभेद नेता मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट की बीच तालमेल बिठते दिख रहा है। उन्होंने शिमला के लिए रविवार को एक साथ उड़ान भरी।

रविवार को भी एक ऐसा मौका आया जब अशोक गहलोत और सचिन पायलट साथ दिखे। मौका था हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू के शपथ ग्रहण समारोह का।

दोनो नेता एक साथ उड़े

दरअसल, इस शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए अशोक गहलोत और सचिन पायलट ने एक ही हेलिकॉप्टर में उड़ान भरी। दोनों ही नेता एक साथ हेलिकॉप्टर से बाहर निकले। इस मामले पर संचार मामलों के प्रभारी कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा कि पार्टी के सभी नेता एकजुट हैं और दोनों नेताओं का एक साथ यात्रा करना सिर्फ फोटो खिंचाने के लिए नहीं था।

जयराम ने पत्रकारों को दिए जवाब

जयराम रमेश ने पत्रकारों ने सवाल किया कि क्या ये एकता का प्रय़ास है? तो इसके जवाब में उन्होंने कहा कि ये कोई प्रयास नहीं है बल्कि वास्तविकता है। हम एक हैं, दोनों ही नेता हमारे लिए संपत्ति के समान हैं। एक नेता अनुभवी है और संगठन और राज्य में ऊंची पोस्ट पर है। सचिन पायलट युवा और ऊर्जावान हैं। लोगों और संगठन को दोनों की जरूरत है। आपने जो देखा है वो पाखंड या दिखावा नहीं है।

दरअसल, अशोक गहलोत और सचिन पायलट बूंदी एयरपोर्ट से दिल्ली के लिए साथ में निकले और वहां से हिमाचल प्रदेश भी साथ ही गए थे।