IIM Indore में जीएमपीई दुबई- बैच 5 का समापन, 42 प्रतिभागियों ने लिया भाग

दुबई में कार्यकारी अधिकारियों के लिए सामान्य प्रबंधन कार्यक्रम (जीएमपीई) का पांचवां बैच 17 मार्च, 2022 को संपन्न हुआ। समापन समारोह आईआईएम इंदौर में निदेशक प्रो.हिमाँशु राय की उपस्थिति में आयोजित किया गया था। इस अवसर परप्रो. मनोज मोतियानी, कार्यक्रम समन्वयक- जीएमपीई; अनिसुमा ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट के संस्थापक निदेशक डॉ. महेश चोटरानी और 42 प्रतिभागियों भी उपस्थित रहे।

प्रो. राय ने प्रतिभागियों को पाठ्यक्रम पूरा करने के लिए बधाई और शुभकामनाएं दी। इस पाठ्यक्रम का उद्देश्य अधिकारियों को व्यवसाय प्रबंधन और नेतृत्व में अंतर्दृष्टि प्राप्त करना है। हालांकि, प्रो. राय ने बैच के साथ जीएमपीई का एक भिन्न अर्थ और दृष्टिकोण साझा किया।जीएमपीई में ‘जी’ का अर्थ है ‘ग्रोथ यानि हर दिन अपने लक्ष्य की और आगे बढ़ना और विकास करना’।

ALSO READ: नातिन लोधी प्रिसा सिंह बनी महाराष्ट्र के बोदलकसा पक्षी महोत्सव की ‘ब्राण्ड अम्बेसडर’

एम ‘ मगैनिमिटी अर्थात उदार’ होने की गुणवत्ता का प्रतिनिधित्व करता है।पी ‘ पैशन, यानि जुनून’ है और ई ‘एम्पैथी यानि सहानुभूति’ का प्रतिनिधित्व करता है। उन्होंने प्रतिभागियों को सलाह दी कि वे जो कुछ भी किसी को देना चाहते हैं उसे मुस्कान के साथ दें। ‘उदार बनें। सभी के लिए करुणा और सहानुभूति रखें; क्योंकि अगर आप किसी एक भी व्यक्ति के जीवन में बदलाव लाते हैं,तो आपको बहुतों का आशीर्वाद मिलेगा’, उन्होंने कहा। नौ माह का यह पाठ्यक्रम कक्षाओं और समूह चर्चा, केस स्टडी और नेटवर्किंग का एक विवेकपूर्ण मिश्रण है।

‘जबकि आपने कक्षाओं और सहपाठियों के माध्यम से ज्ञान प्राप्त करने में समय का निवेश किया है, यह भीसुनिश्चित करें कि आप अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए इस ज्ञान को लागू करने के के लिए उत्सुक रहें’। उन्होंने कहा कि सफलता प्राप्त करने के लिए अपने लक्ष्यों और महत्वाकांक्षाओं के प्रति जुनूनी होने की जरूरत है, और यहां दृढ़ता और धैर्य एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

ALSO READ: MPPKVVCL : बिजली सम्बंधित सभी सूचनाएं तुरंत मिलेगी फोन पर, करना होगा ये

प्रो. मोतियानी ने प्रतिभागियों को अपने ज्ञान को दूसरों तक पहुंचाने की सलाह दी। ‘अपनी शिक्षा और आपके द्वारा प्राप्त ज्ञान को साझा करना सबसे महत्वपूर्ण जीवन निवेश है’। उन्होंने कहा कि यह एक ‘बचत’ है, और जिसमें यह कई गुना ‘रिटर्न’ प्राप्त होता है।

इस अवसर पर प्रतिभागियों को प्रमाणपत्रप्राप्त हुआ। प्रतिभागियों ने इस अवसर पर पाठ्यक्रम पूर्ण करने पर पर अपनी खुशी साझा की। उन्होंने सुचारू रूप से डिजाइन किये गए और प्रासंगिक पाठ्यक्रम के लिए आईआईएम इंदौर को धन्यवाद दिया। डॉ. चोटरानी ने ऑनलाइन और हाइब्रिड मोड दोनों में सफलतापूर्वक कार्यक्रम आयोजित करने के लिए आईआईएम इंदौर को धन्यवाद दिया। धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।