चक्रवाती तूफ़ान मैंडूस (Cyclone Mandous) एक चक्रवाती तूफान हैं जो रात में लगभग 2 बजे तमिलनाडु के तट से टकरा गया है। ये चक्रवात शुक्रवार करीब रात को महाबलिपुरम के पास पहुंच गया। इस चक्रवात ‘मैंडूस’ ने बीती रात 75 किमी प्रति घंटे की रफ्तार के साथ तमिलनाडु में दस्तक दी थी। इस चक्रवाती तूफान ने चेन्नई और चेंगलपट्टू समेत 10 जिलों में भारी तबाही मचाई है और चार लोगों के चक्रवात की चपेट में आकर मरने की सूचना है।

IMD के अनुसार, चक्रवात मैंडूस ने शुक्रवार रात लगभग 10:30 बजे दस्तक देना शुरू किया और लगभग 1:30 बजे चक्रवात ने तमिलनाडु के महाबलीपुरम के पास तट को पार किया। महाबलीपुरम के पास चक्रवात की दस्तक के बाद से चेन्नई के कई हिस्सों में भारी बारिश होने के साथ ही तेज हवाएं चल रही हैं। क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के उप महानिदेशक एस बालचंद्रन ने कहा कि चक्रवाती तूफान की गति लगभग 14 किलोमीटर प्रति घंटे थी।

वहीं मुख्यमंत्री स्टालिन ने कहा कि नुकसान का आकलन किया जा रहा है और जरूरत पड़ने पर केंद्रीय सहायता मांगी जा सकती है। इससे पहले, राज्य के राजस्व और आपदा प्रबंधन मंत्री के के एस एस आर रामचंद्रन ने कहा कि 205 राहत केंद्रों में 9,000 से अधिक लोगों को रखा गया है।

Also Read : Indore : महापौर भार्गव ने स्वच्छ इंदौर स्वस्थ इंदौर के अंतर्गत ‘योग मित्र’ सॉन्ग को किया लॉन्च

बता दें मौसम विभाग के पूर्वानुमान अनुसार, ये बंगाल की खाड़ी में बन रहे सिस्टम के कारण है, जो तेजी से तीव्र होता गया है और एक चक्रवाती तूफान, मैंडूस बन गया है। बारिश तमिलनाडु के सभी पांच उप मंडलों और आंध्र प्रदेश समेत कई राज्यों को प्रभावित करेगी जिसमें पुडुचेरी और कराईकल, तटीय आंध्र प्रदेश, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, केरल और रायलसीमा शामिल हैं। वहीं, मौसम विभाग के अनुसार, आज इसके कमजोर पड़ने की संभावना है, हालांकि इससे पहले ये तूफान उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ेगा और फिर महाबलीपुरम में लैंड करेगा।