इंदौर : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार शाम को इंदौर के आनंदा कॉलोनी स्थित श्री बी. के. झवर के निवास पर पत्नी साधना के साथ पहुंचकर वहां “पधारो म्हारे घर” कार्यक्रम के तहत कॉलोनी वासियों के घरों में रुके हुए प्रवासी भारतीयों से भेंट की।

इस अवसर पर उन्होंने सभी प्रवासी भारतीयों का माल्यार्पण कर स्वागत किया और सभी को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। कार्यक्रम में इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष जयपाल सिंह चावड़ा, संभाग आयुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा, कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी सहित अन्य, अधिकारी और प्रवासी भारतीय उपस्थित थे। उन्होंने इस अवसर पर इंदौर विकास प्राधिकरण की विकास योजनाओं पर केंद्रित ब्लू प्रिंट पुस्तिका का विमोचन भी किया।

Also Read : वन मंत्री ने वन विभाग द्वारा लालबाग में लगाई गई प्रदर्शनी का किया अवलोकन

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में संबोधित करते हुए कहा कि जब प्रवासी भारतीय दिवस कार्यक्रम इंदौर में आयोजित करने का विचार आया, तभी यह भी विचार किया गया कि कुछ प्रवासी भारतीयों को होटलों के स्थान पर स्थानीय नागरिकों के घरों पर रोकने की व्यवस्था की जाए, ताकि मेहमान और मेजबान दोनों परिवार एक दूसरे की संस्कृति व परंपराओं को समझ सके और बाहर से आए हमारे मेहमानों को अपनापन अनुभव हो। उन्होंने कहा कि प्रवासी भारतीयों के स्वागत व सत्कार में केवल प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन ही नहीं इंदौर का हर एक नागरिक लगा हुआ है। उन्होंने कहा कि हमारे देश की संस्कृति और परंपराओं के अनुसार “अतिथि देवताओं के तुल्य माना गया है” और यह कहा गया है कि “मेहमान जो हमारा होता है वो जान से प्यारा होता है”। इस अवसर पर विभिन्न देशों से इंदौर आए प्रवासी भारतीयों ने भी इंदौर में आने के बाद के अपने-अपने अनुभव साझा किये।

Also Read : कला, भोजन और रचनात्मकता भारतीय संस्कृति का पुरातनकाल से हिस्सा : केंद्रीय राज्य मंत्री लेखी

पिछले 20 वर्षों में मध्यप्रदेश की दशा ही बदल दी मुख्यमंत्री चौहान ने
बहरीन से इंदौर आए रमेश पाटीदार ने अपने संबोधन में मुख्यमंत्री चौहान की कार्यशैली और नीतियों की सराहना करते हुए कहा कि “CM केवल प्रदेश और देशवासियों के ही नहीं दुनिया में बसे सभी प्रवासी भारतीयों के भी मामा हैं।” उन्होंने कहा कि इंदौर शहर की स्वच्छता के बारे में बहरीन में सुना तो था लेकिन जब यहां आकर देखा, तो कल्पना से भी बेहतर ही पाया। उन्होंने कहा कि वह जब 20 वर्ष पूर्व मध्यप्रदेश आए थे, तो यहां की सड़कें बहुत ही खराब थी। अब यहां की सड़कें बहुत ही अच्छी हैं।इंदौर की सफाई व्यवस्था लंदन से भी बेहतर पाई
लंदन के मेयर सुनील चोपड़ा ने अपने अनुभव सुनाते हुए इंदौर की स्वच्छता व्यवस्था की सराहना की और कहा कि इंदौर की साफ-सुथरी सड़कें लंदन की सड़कों से भी बेहतर हैं। इस अवसर पर संयुक्त अरब अमीरात से आए आदित्य प्रताप सिंह तथा साध्वी दिव्यप्रभा के साथ साथ कैलीफोर्निया अमेरिका से आई डॉ. वीणा चौहान ने भी अपने अनुभव सुनाते हुए इंदौर में मिले सम्मान और अपनेपन की सराहना की।