महाशिवरात्रि पर शिव जी की पूजा में करें इन मंत्रों का जाप, मिलेगी सारे क्लेशों से मुक्ति

भगवान भोलेनाथ का स्वभाव बेहद सरल माना जाता है, लोगों कि आस्था के अनुसार भोलेनाथ अपने नाम की तरह भोले भंड़ारी है। भोलेनाथ की कृपा जिस व्यक्ति पर भी हो उसे भला किसी भी परेशानी से डरने की जरुरत नहीं होती है।

0

भगवान भोलेनाथ का स्वभाव बेहद सरल माना जाता है, लोगों कि आस्था के अनुसार भोलेनाथ अपने नाम की तरह भोले भंड़ारी है। भोलेनाथ की कृपा जिस व्यक्ति पर भी हो उसे भला किसी भी परेशानी से डरने की जरुरत नहीं होती है। शिव जी को एक लोटा जल अर्पित करने से ही वह शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं। भोलेनाथ की सच्चे मन से पूजा करने से ही व्यक्ति सभी तरह की परेशानियों से छुटकारा पा सकता हैं।

भोलेनाथ का भोला स्वाभाव सभी की परेशानियों के साथ आर्थिक तंगी को भी दूर कर देते हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार महादेव इन 3 राशियों पर प्रसन्न हुए हैं, इन राशियों पर देवों के देवता महादेव अपनी विशेष कृपा बिखेरने वाले हैं, जिससे इनके पास गाड़ी भी होगी, बंगला भी होगा और होगा मनचाह भाग्य, इनके जीवन में आने वाले सभी कष्टों का अंत होगा। शिव जी की पूजा करते समय उनके मंत्रों का जाप करने से सांसारिक कष्‍टों और मानसिक तनावों से मुक्‍ति मिल जाती है।

इन मंत्रों का भी करें जाप

सोमवार को शिवलिंग की पूजा अर्चना के बाद कुश के आसन पर बैठ कर रुद्राक्ष माला से इन शिव के कुछ प्रभावशाली मंत्रों का जप करना भी विलक्षण सिद्धि व मनचाहे लाभ देने वाला होता है।

इन मंत्रों का जाप आप अपनी इच्‍छा अनुसार 11 , 21 , 101 ,1001 बार कर सकते है।

bholenath1

इन मंत्रों में ऊं नमः शिवाय तो सर्वश्रेष्‍ठ है ही इसके साथ ही ऊं नमः शिवाय शुभं शुभं कुरू कुरू शिवाय नमः ऊं’ के मंत्र का जाप भी बड़ी से बड़ी समस्या और विघ्न को टालने में सहायक होता है।

इसके साथ ही नमो नीलकण्ठाय, ऊं पार्वतीपतये नमः, ऊं पशुपतये नम: का जाप भी कर सकते हैं ये अत्‍यंत कल्‍याणकारी हो सकते हैं।

यह नाम भगवान शिव को प्रसन्न करने के अत्यंत सरल और अचूक मंत्र हैं। इन का रुद्राक्ष की माला से जप करना चाहिए। जप पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके करना चाहिए।