बेटे को टिकट दिलाने पर राहुल की नाराजगी के बाद अशोक गहलोत ने तोड़ी चुप्पी, कहा… | Ashok Gehlot speaks after Rahul Gandhi displeasure on CM Son’s getting Ticket…

0
40

लोकसभा चुना में मिली हार के बाद दिल्ली में हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों द्वारा अपने बेटों को लोकसभा का टिकट दिलाने पर नाराजगी जताई थी जिसके बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपनी चुप्पी तोड़ी है।

कांग्रेस की हार की समीक्षा के लिए बुलाई गई बैठक के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान सीएम गहलोत ने कहा कि ‘राहुल गांधी जी को अधिकार है कहने का, क्योंकि वह कांग्रेस अध्यक्ष हैं। किस नेता की कहां कमी रही कैंपेन के अंदर, किस नेता की निर्णय में कहां कमी रही? यह कहने का उन्हें अधिकार है। ऐसे वक्त में जब पोस्टमार्टम हो रहा है तो स्वाभाविक है कि यह कांग्रेस प्रेसिडेंट का अधिकार है कि वह सबको कमियां बताएंगे । हम लोगों ने उस पर डिस्कशन किए हैं। जो बातें अखबारों में आती हैं, किस संदर्भ में उन्होंने कही हैं, वे संदर्भ खत्म हो जाते हैं। मीडिया में जब संदर्भ से हटकर बात होती है तब उसके मायने दूसरे हो जाते हैं उस पर मैं कोई कमेंट नहीं करना चाहता।’

राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘पहले भी ऐसा समय आ चुका है, जिसमें हम कमजोर रहे, लेकिन बाद में पार्टी उबरी और सत्ता में भी आई।’

वहीं राहुल गांधी द्वारा इस्तीफे की पेशकश किए जाने के सवाल पर गहलोत ने कहा कि ‘वह बात तो वर्किंग कमेटी में सबके सामने आ चुकी है। उन्होंने पेशकश की पर पूरी वर्किंग कमेटी ने एकजुट होकर एक स्वर से उसको रिजेक्ट कर दिया. उनको कहा गया कि आपको ही कमान संभालनी है।’

अशोेक गहलोत ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष में ही पीएम मोदी और एनडीए का सामना करने की ताकत है जो उन्होने 5 साल तक किया है। हार से हम लोग नहीं घबराएंगे, हम हार सकते हैं लेकिन कांग्रेस में हिम्मत की कोई कमी नहीं आई है। साथ ही गहलोत ने कहा कि झूठ थोड़े समय के लिए जीत सकता है लेकिन आखिरी में जीत सत्य की ही होती है।

गौरतलब है कि अशोक गहलोत के बेटे को कांग्रेस ने जोधपुर से लोकसभा का टिकट दिया था लेकिन बीजेपी प्रत्याशी और केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत से उन्हे हार का सामना करना पड़ा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here