कॉमनवेल्थ गेम्स में अचिंता शेउली ने भारत को दिलाया तीसरा स्वर्ण

कॉमनवेल्थ गेम्स के तीसरे दिन भारत को छठा पदक मिल गया। अचिंता शेउली ने भारत के लिए तीसरा स्वर्ण और छठा पदक जीता।

कॉमनवेल्थ गेम्स के तीसरे दिन भारत को छठा पदक मिल गया। अचिंता शेउली ने भारत के लिए तीसरा स्वर्ण और छठा पदक जीता। इससे पहले रविवार को ही जेरेमी लालरिनुंगा ने इतिहास रचते हुए वेटलिफ्टिंग स्वर्ण पदक जीता था। वह बर्मिंघम में गोल्ड मेडल जीतने वाले भारत के पहले पुरुष एथलीट बने। अब तक भारत को छह पदक मिले हैं और सभी पदक वेटलिफ्टिंग में ही आए हैं। भारतीय वेटलिफ्टर अचिंता शेउली ने कमाल कर दिया है। उन्होंने बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों में भारत के लिए तीसरा स्वर्ण और छठा पदक जीता। अचिंता शेउली ने स्नैच राउंड टॉप पर रहते हुए खत्म किया। उन्होंने पहले प्रयास में 137 किलो, दूसरे प्रयास में 140 किलो और तीसरे प्रयास में 143 किलो का वजन उठाया। 143 किलो उनका पर्सनल बेस्ट भी है। स्नैच राउंड में दूसरे स्थान पर मलेशिया के हिदायत मोहम्मद रहे। अचिंता शेउली ने हिदायत पर स्नैच राउंड के बाद पांच किलो की बढ़त बना रखी थी।

Also Read – हफ्ते के पहले कारोबारी दिन सेंसेक्स 200 अंकों तक उछला, निफ्टी 17200 के पार

इसके बाद क्लीन एंड जर्क राउंड में अचिंता ने पहले प्रयास में 166 किलो का वजन उठाया, जो कि कॉमनवेल्थ गेम्स का रिकॉर्ड भी है। इसके बाद दूसरे प्रयास में उन्होंने 170 किलो उठाने का प्रयास किया, लेकिन विफल रहे। तीसरे प्रयास में फिर उन्होंने 170 किलो वजन उठाया और अपने ही रिकॉर्ड में सुधार किया।
अचिंता ने स्नैच राउंड में 143 किलो और क्लीन एंड जर्क राउंड में 170 किलो वजन समेत कुल 313 किलो वजन उठाया, जो कि कॉमनवेल्थ गेम्स में रिकॉर्ड भी है। अचिंता के नाम अब स्नैच राउंड में कॉमनवेल्थ गेम्स रिकॉर्ड, क्लीन एंड जर्क राउंड में कॉमनवेल्थ रिकॉर्ड और कुल वजन में भी कॉमनवेल्थ रिकॉर्ड है।

अचिंता के बाद दूसरे स्थान पर मलेशिया के हिदायत मोहम्मद रहे। हिदायत ने स्नैच राउंड में 138 किलो का वजन उठाया। इसके बाद क्लीन एंड जर्क में उन्होंने पहले प्रयास में 165 किलो का वजन उठाया। अचिंता ने 170 किलो उठाकर स्नैच और क्लीन-जर्क मिलाकर कुल वजन 313 किलो कर लिया था। हिदायत को इससे आगे निकलने के लिए क्लीन एंड जर्क में 176 किलो का वजन उठाना था। उन्होंने दूसरे और तीसरे प्रयास में 176 किलो अटैम्प्ट भी करने की कोशिश की, लेकिन विफल रहे। इस तरह अचिंता ने स्वर्ण पदक अपने नाम किया।