55 हजार करोड़ की हीरा खदान मध्यप्रदेश में

0
24

भोपाल। राज्य के खनिज साधन विभाग द्वारा रियो टिन्टों के द्वारा छोड़ी गई छतरपुर जिले की बन्दर हीरा खदान की नीलामी के लिये सतत प्रयास किए जा रहे थे जिसके फलस्वरूप 13 नवम्बर 2019 को खुली प्रथम चरण की तकनीकी निविदाओं में पांच बड़ी कम्पनियों द्वारा 55 हजार करोड़ की इस हीरा खदान के लिए अपना दावा प्रस्तुत किया है।

इन कम्पनियों में भारत सरकार का उपक्रम नेशनल मिनरल डेवलपमेंट कारपोरेशन लिमिटेड (एन.एम.डी.सी.) के अलावा एस्सेल माईनिंग (बिरला ग्रुप), रूंगटा माईन्स लिमिटेड, चेंदीपदा काॅलरी (अडानी ग्रुप) तथा वेदान्ता कम्पनी द्वारा बिड जमा की गई है।

उल्लेखनीय है कि देश के सबसे बड़े खदान नीलामी प्रकरण में भारत सरकार के नीलामी नियमानुसार लगभग 56 करोड़ रूपये की सुरक्षा निधि जमा करायी जानी थी एवं आवेदक कम्पनी की कम से कम 1100 करोड़ रूपये की नेटवर्थ होना आवश्यक था।

विभाग के मंत्री प्रदीप जायसवाल ने बताया कि तकनीकी बिड के मूल्यांकन का कार्य 27/11/2019 को पूर्ण किया जाएगा जिसके पश्चात 28/11/2019 को प्रारंभिक बोली खोली जाएगी, तथा इसके अगले दिन आॅनलाईन नीलामी सम्पादित की जाएगी।

छतरपुर जिले में लगभग 3.50 करोड़ कैरेट के हीरे के भण्डार का अनुमानित मूल्य 55 हजार करोड़ है जिस पर राज्य शासन को प्राप्त होने वाली रायल्टी की दरों के आधार पर नीलामी सम्पन्न की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here