इस विश्वविद्यालय में ले सकते है 8वीं व 10वीं के बाद प्रवेश, 20 स्किल बेस्ड कोर्सों की हुई शुरुआत

विश्वविद्यालय ने युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आगे आकर बहुत बड़ा कदम उठाया है। अभीतक विश्वविद्यालय में पढ़ाई के लिए न्यूनतम योग्यता 12वीं पास ही रखी गई थी और इन कोर्सेज में दाखिला लेने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है।

यूजी कोर्स में एडमिशन 12वीं के याद ही लिया जा सकता है। लेकिन अब कानपुर की छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय में 12 साल की उम्र में ही यूनिवर्सिटी में दाखिला लेकर नया सीखने का मौका दिया है। जी हां, आपको बता दे कि अब नए सत्र में छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय (CSJMU) की ओर से करीब 20 कोर्स की शुरुआत की जा रही है। छात्र कब कुछ नया सीख पाएंगे, इन कोर्सेज में दाखिला लेने के लिए 12वीं कक्षा पास होना भी अनिवार्य नहीं है। इन सभी कोर्स में एडमिशन के लिए छात्रों की योग्यता आठवीं पास रखी गई है। कक्षा 8वीं पास करने के बाद यहा एडमिशन ले सकते हैं। छात्र अब यूनिवर्सिटी में प्रशिक्षण लेकर पढ़ाई करके अपने खुद के पैरों पर खड़े होकर अपने सपनों को उड़ान दे सकते हैं और खुद का रोजगार भी शुरू कर सकते हैं। क्योंकि यहां पर सभी स्किल बेस्ड कोर्स की शुरुआत की गई है, छात्रों को अब अलग-अलग फील्ड में निपुण बनाने की शुरुआत की जा रही है।

इतना ही नहीं यूनिवर्सिटी ने दसवीं पास छात्रों के लिए भी कई नए कोर्स की शुरुआत की है। जिसमें आईटीआई, पॉलिटेक्निक की तर्ज पर कई कोर्स शुरू किए गए हैं। छात्रों के लिए सर्टिफिकेट कोर्स की भी शुरुआत की गई है, इसमें ग्राफिक डिजाइनिंग, चित्रकला, एनीमेशन पेंटिंग,3D पेंटिंग कोर्सेज, घरेलू पेंटर, इंटीरियर डिजाइनर, डेकोरेशन, आर्किटेक्चरल, मशीनिस्ट, एसी, फ्रिज मैकेनिकल जैसे कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं। इसके लिए किसी भी वर्ग के छात्र यहां पर दाखिला लेकर प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं। इतना ही नहीं इस यूनिवर्सिटी में दाखिला लेकर छात्र तबला, कत्थक, वोकल, सितार, लोकनृत्य, थिएटर सहित ऑक्टोपैड, सेंट्रल कारपेंटर, प्लंबर, वेल्डर, टेक्नीशियन आदि जैसी स्किल का प्रशिक्षण ले सकते है।

Must Read- इंदौर: केंद्रीय मंत्री की उपस्थिति में होगा पीएम स्व निधि महोत्सव, गीत की लॉन्चिंग एवं पथ विक्रेताओं का करेंगे सम्मान

CSJMU विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर विनय पाठक के निर्देश पर इन नए कोर्स की शुरुआत की गई है। जिनका उद्देश्य युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के साथ ही उनको जरूरी स्किल बेस्ड प्रोग्राम सिखाना है। जिनके चलते कई ऐसे कोर्स की शुरुआत की जा रही है, जिसमें प्रवेश के लिए उम्र की बाध्यता भी समाप्त हो जाएगी। आपको बता दें कि इस विश्वविद्यालय ने युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आगे आकर बहुत बड़ा कदम उठाया है। अभीतक विश्वविद्यालय में पढ़ाई के लिए न्यूनतम योग्यता 12वीं पास ही रखी गई थी और इन कोर्सेज में दाखिला लेने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है। जिसमें मुख्य रुप से यूआईईटी (यूनिवर्सिटी इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी) एवं संगीत विभाग में शुरू किए गए हैं। इन सभी में लगभग 20 सीटें ही निर्धारित की गई है जिनकी फीस भी 2000 से ₹3000 रखी गई है। अब छात्र इस विश्वविद्यालय में प्रवेश लेकर नई स्किल सीख सकते है और अपना खुद का काम शुरू कर सकते है।