नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर महिला से सामूहिक बलात्कार, रेलवे कर्मचारी हैं सभी आरोपी

-नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर 21 जुलाई की रात महिला से सामूहिक बलात्कार मामला सामने आया है। सभी चारों आरोपी  नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के इलेक्ट्रिक विभाग में कर्मचारी हैं।महिला ने पुलिस विभाग को बताया कि एक कॉमन फ्रेंड के जरिए उसका एक आरोपी से सम्पर्क हुआ था, जोकि नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर रेलवे के इलेक्ट्रिक विभाग का कर्मचारी है।

नई दिल्ली (New Delhi) रेलवे स्टेशन पर महिला से सामूहिक बलात्कार मामला सामने आया है। रेलवे स्टेशन (Railway station) पर बने फुटओवर ब्रिज के नीचे इस आपराधिक कृत्य को अंजाम दिया गया। जानकारी के अनुसार महिला नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के एक रेलवे विभाग के ही सम्पर्क में थी, जिसने बेटे के जन्मदिन और नए गृह प्रवेश का झांसा देकर महिला को रेलवे स्टेशन पर बुलाया और अपने साथियों के साथ मिलकर इस आपराधिक घटना को अंजाम दिया। महिला की आयु तीस वर्ष के करीब बताई गई है।

Also Read-राजस्थान : भरतपुर में अवैध खनन से आक्रोशित होकर आत्मदाह करने वाले संत ने त्यागे प्राण, दिल्ली में चल रहा था उपचार

21 जुलाई की रात की है घटना, 4 आरोपी गिरफ्तार

जानकारी के अनुसार नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर महिला के साथ हुई सामूहिक बलात्कार की यह घटना 21 जुलाई गुरुवार की रात की है। इस मामले में अबतक दिल्ली पुलिस के द्वारा 4 अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। सूत्रों के अनुसार सभी चारों आरोपी  नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के इलेक्ट्रिक विभाग में कर्मचारी हैं। जिनमें से एक आरोपी महिला का पूर्व परिचित है, जिसके द्वारा महिला को गलत जानकारी देकर बुलाया गया और अपने साथियों के साथ मिलकर रेलवे स्टेशन परिसर के एक कमरे में यह दुष्कृत्य किया गया ।

Also Read-शेयर बाजार : बालाजी एमाइंस के शेयर्स में 5 प्रतिशत तक उछाल, निवेशक ले सकते हैं जोखिम

दिल्ली के नजदीक फरीदाबाद की है पीड़ित महिला

सूत्रों के अनुसार सामूहिक बलात्कार पीड़ित महिला दिल्ली के नजदीक फरीदाबाद की निवासी है। जानकारी के अनुसार महिला पिछले एक वर्ष से अपने पति से अलग रह रही है। महिला ने पुलिस विभाग को बताया कि एक कॉमन फ्रेंड के जरिए उसका एक आरोपी से सम्पर्क हुआ था, जोकि नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर रेलवे के इलेक्ट्रिक विभाग का कर्मचारी है। जिसने गलत जानकारी देकर महिला को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर बुलाया और अपने रेलवे विभाग के ही साथियों के द्वारा इस आपराधिक कृत्य को अंजाम दिया।