क्या BCCI के वर्चस्व के आगे काम कर पाएगा NADA?

राष्ट्रीय जूनियर हॉकी टीम के पूर्व फिजिकल ट्रेनर और स्पोर्ट्स मेडिसिन विशेषज्ञ डॉक्टर सरनजीत सिंह का मानना हैं कि नाडा के अंतर्गत आने की लिए BCCI ने इतना समय क्यों लिया यह बीसीसीआई की मंशा पर सवाल उठाता हैं।

0
71
BCCI

नई दिल्ली : भारत की क्रिकेट संस्था BCCI जो कि विशव क्रिकेट की सबसे अमीर क्रिकेट संस्था में शामिल हैं। उसने राष्ट्रीय डोपिंग रोधी संस्था (NADA) के दायरे में आना मंजूर कर लिया हैं लेकिन सवाल यह उठता हैं कि (NADA) BCCI जैसी शक्तिशाली संस्था के साथ सही से काम कर पाता हैं या नहीं।

इसी बीच विशेषज्ञों का मानना है कि भारत में क्रिकेट जैसे खेल को धर्म और खिलाड़ियों को भगवान की तरह पूजा जाता हैं। तो क्या नाडा पूरी तरह से खिलाडियों पर कंट्रोल कर पाएगा और उन पर अपने नियम लगा पाएगा क्योकि नाडा के नियम बहुत ही सख़्त हैं।

जानकारों का मानना हैं नाडा पूरी तरह से BCCI पर कंट्रोल नहीं कर पाएगा उसे बीसीसीआई के रुतबे और पैसों के आगे झुकना ही पड़ेगा। राष्ट्रीय जूनियर हॉकी टीम के पूर्व फिजिकल ट्रेनर और स्पोर्ट्स मेडिसिन विशेषज्ञ डॉक्टर सरनजीत सिंह का मानना हैं कि नाडा के अंतर्गत आने की लिए BCCI ने इतना समय क्यों लिया यह बीसीसीआई की मंशा पर सवाल उठाता हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here