इन्दौर: कुन्दकुन्द कहान दिगम्बर जैन शासन प्रभावना ट्रस्ट इन्दौर द्वारा आध्यात्मिकसत्पुरुष कानजीस्वामी के पुण्य प्रभावना योग में निर्मित विश्व की अद्वितीय रचना तीर्थधाम ढाईद्वीप जिनायतन का मज्जिनेन्द्र पंचकल्याणक के प्रतिष्ठा महोत्सव के अंतर्गत दूसरे दिन गर्व कल्याणक मनाया गया । जिसमें प्रातःकाल माता मरूदेवी ने रात्रि में देखे सोलह स्वपनों का फल जानने की जिज्ञासा से अयोध्या की राज्यसभा में महाराजा नाभिराय के पास गईं, वहाँ अत्याधिक उत्सुकता के माता ने क्रमश रात्रि में आए स्वपनों का वृत्तांत सुनाया एवं राजा नाभिराय ने विशेष ज्ञान से उनका फल जाना जिनका भव्य प्रदर्शन राज्यसभा में किया गया।

अवधिज्ञान के प्रयोग से इस युग के प्रथम तीर्थंकर ऋषभदेव के गर्भ कल्याणक का शुभ समाचार इंद्रलोक के इंद्रों ने जान लिया एवं इंद्रसभा में गर्भ कल्याणक से संबंधित चर्चाएं हुईं। तत्पश्चात इन्द्रों इंद्राणीयों द्वारा पूजन की गई इंद्रसभा एवं राज्यसभा का संचालन पंडित अभयकुमारजी शास्त्री देवलाली एवं पंडित संजयजी शास्त्री कोटा ने किया। उक्त जानकारी देते हुए आयोजन प्रमुख एस पी भारिल्ल व प्रवक्ता मनीष अजमेरा ने बताया की
दोपहर में ढाईद्वीप जिनायतन के मंदिर की शुद्धि, 30 विशाल वेदी जिसमें ढ़ाईदीप से संबंधित 10 क्षेत्र के त्रिकाल चौबीसी की 720 वेदी इस के अतिरिक्त एक भरत एवं बाहुबली की वेदी, एक विश्व की सीमंदर भगवान की स्फटिक मणि की सबसे बड़ी प्रतिमा सहित 19 तीर्थंकरों की, धातु से निर्मित 2 प्रतिमायों की, पंचमेरु स्थित 100 वेदियों एवं 300 रत्नों से निर्मित जिनबिम्बो की शुद्धि की गई।

Also Read – खेल मंत्रालय का बड़ा फैसला: आज अयोध्या में होने वाली भारतीय कुश्‍ती संघ की बैठक रद्द

ढाईद्वीप जिनायतन अलौकिक सौंदर्य युक्त शिखर पर 12 फीट ऊंचाई वाला विशाल स्वर्ण कलश एवं 14 फिट ऊंचाई वाला स्वर्ण ध्वजदण्ड शुद्धि के लिए घटयात्रा निकाली गई, जिसमें युवा, बालक, महिलाएं, बालिका व देश भर से आए समाज जनों ने भाग लिया। घट यात्रा में महिलायें केसरिया वस्त्र पहनकर अपने मस्तक पर कलश धारण कर सम्मिलित हुईं। घटयात्रा अयोध्या नगर से ढाईद्वीप जिनायतन तक पहुंची। घट यात्रा में बड़ी संख्या में जनसैलाब उमड़ा।

जुलूस के ढाईद्वीप जिनायतन में पहुंचने के पश्चात पंचकल्याणक के प्रतिष्ठाचार्य अभिनंदनजी शास्त्री खनियाधाना के निर्देशन में मनोज जैन जबलपुर, सुनील धवल, महेंद्र अमायन, सुकुमार झांझरी, क्षेणिकजी जबलपुर के सहयोग से शुद्धि का समस्त कार्यक्रम किया गया। घट यात्रा में विपिन शास्त्री , विवेक शास्त्री , अखिल बंसल , प्रमोद पहाड़िया , निम्मित अजमेरा , अखिल जैन शास्त्री आदि का संयोजन रहा।