आज Indore को मिलेगी बड़ी सौगात, सीएम शिवराज 66 करोड़ की लागत से तैयार सिक्स लेन फ्लाईओवर का करेंगे भूमि पूजन

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान  आज इंदौर  को बड़ा तोहफा देंगे। शुक्रवार को सिक्स लेन फ्लाई ओवर  की नींव रखी जाएगी। वहीं दोपहर 2:30 बजे सीएम शिवराज भूमि पूजन करेंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान  आज इंदौर  को बड़ा तोहफा देंगे। शुक्रवार को सिक्स लेन फ्लाई ओवर  की नींव रखी जाएगी। वहीं दोपहर 2:30 बजे सीएम शिवराज भूमि पूजन करेंगे। इसके लिए इंदौर विकास प्राधिकरण द्वारा पांच चौराहों को चुना गया है। सूत्रों की माने तो सीएम शिवराज सुबह 10:45 में इंदौर पहुंचेंगे और 3:50 तक इंदौर में रहेंगे। इससे पहले वह अभय प्रशाल के पास स्थित एक कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। साथ ही स्ट्रीट वेंडर्स योजना के तहत लाभार्थियों के सम्मेलन में भाग लेने के लिए क्षेत्रीय पार्क जाएंगे। दोपहर 2:30 पर सीएम शिवराज 6 लेन के फ्लाईओवर का भूमि पूजन करेंगे।

इंदौर के लव कुश चौराहा सहित भवरकुआं और खजराना चौराहा पर भूमि पूजन का कार्य पूरा किया जाएगा। इतना ही नहीं लव कुश चौराहा पर 716 मीटर लंबा ब्रिज तैयार किया जाना है। 66 करोड़ 51 लाख की लागत से यह ब्रिज तैयार की जाएगी। इसके लिए कॉन्ट्रैक्ट का काम अग्रोहा इंफ्रास्ट्रक्चर को सौंपा गया है। वही कार्य पूरा करने की समय सीमा 18 महीने निर्धारित की गई है।

 

Also Read – मध्यप्रदेश में अब दुष्कर्मियों,आतंकियों की अब खेर नहीं, आखरी सास तक अब कटनी होगी जेल

इंदौर के लव कुश चौराहा पर 716 मीटर लंबा ब्रिज तैयार किया जाएगा। बीते दिनों मुख्यमंत्री द्वारा शहर में 11 चौराहों पर फ्लाईओवर बनाने की बात कही गई थी। जिसमें से पांच का चुनाव कर लिया गया है। इन पांच में लव कुश चौराहा के अलावा भंवरकुआं चौराहा, खजराना चौराहा, फूटी कोठी और महू नाका पर फ्लाईओवर तैयार होंगे।

वही सिक्स लेन फ्लाई ओवर तैयार होने से इंदौर और उज्जैन से सुपर कॉरिडोर के लिए वाहनों के आवागमन में राहत मिलेगी। साथ ही उज्जैन से एयरपोर्ट, सुपर कॉरिडोर और अन्य जगह को बेहतर पहुंच मिलेगी। दरअसल इंदौर और उज्जैन के बीच डेढ़ सौ से अधिक बसों का आवागमन रहता है। जिससे हर दिन 7000 से अधिक वाहनों के जवाब रहते हैं।

इसके अलावा हर सोमवार महाकाल दर्शन के लिए भक्तों की भीड़ उज्जैन पहुंचती है। जबकि एक डेढ़ हजार से अधिक लोगों का इंदौर उज्जैन के बीच हर दिन आवागमन जारी रहते हैं। जिससे कई बार वाहनों के दबाव में अधिक हादसे होते हैं। ऐसे में सिक्स लेन फ्लाई ओवर से आवागमन प्रक्रिया में आसानी होगी।