Tithi : आज है पौष शुक्ल चतुर्दशी तिथि, रखें इन बातों का ध्यान

आज रविवार, पौष शुक्ल चतुर्दशी तिथि है। आज आर्द्रा नक्षत्र, "आनन्द" नाम संवत् 2078 है। 

आज रविवार, पौष शुक्ल चतुर्दशी तिथि है। आज आर्द्रा नक्षत्र, “आनन्द” नाम संवत् 2078 है।
( उक्त जानकारी उज्जैन के पञ्चाङ्गों के अनुसार है)

Also Read – टेबल टेनिस में अंतिम चार मुकाबले तय

-आज पौष रविवार सूर्य व्रत है।
-चित्रकूट धाम में कामदगिरि की 5 किलोमीटर लम्बी परिक्रमा नंगे पैर करने की प्रथा है।
-व्रत का अर्थ भूखे रहना नहीं होता, आहर पर संयम करना होता है।
-यदि आपके पास शील (चरित्र) है तो आपके पास सदैव धर्म, सत्य, सदाचार, बल और लक्ष्मी रहेगी।
-शीलं परं भूषणम्। शील (चरित्र) के बल पर ही मान्धाता ने एक दिन में, जनमेजय ने 3 दिनों में और नाभाग ने 7 दिनों में इस पृथ्वी का राज्य प्राप्त कर लिया था।
-भविष्य पुराण के उत्तर पर्व में व्रत ही व्रत (लगभग सम्पूर्ण व्रत) का विशेष वर्णन है।
-भगवान राम – सीता के विवाह उत्सव का अनुकरण – स्मरण करने से घर में विवाह मङ्गलमय हो जाता है।
-चारों भाइयों के विवाहोपलक्ष्य में राजा दशरथ ने कामधेनु के समान 4 लाख गाय ब्राह्मणों को दान दी थी।
-रामराज्य के समय अयोध्या में कोई भी व्यक्ति व्रत विहीन नहीं था।
-पुत्र नहीं होने के कारण राजा दशरथ ने कई वर्षों तक श्रृंगार नहीं किया था।
-जीव को शुद्ध करने के लिए ही सोलह संस्कार की आवश्यकता होती है।
-कृष्ण अवतरण के समय पूरा संसार निद्रा में था। सिर्फ तीन जागृत अवस्था में थे – वसुदेव, देवकी और आकाश में चन्द्रमा।
-राम अवतरणके समय वशिष्ठ जी ने जब पहली बार शिशु राम को देखा तो वे वेद मन्त्र तक भूल गए थे।

दिनांक 16 जनवरी 2022, रविवार
-विक्रम संवत् 2078, शक संवत् 1943
-पौष शुक्ल चतुर्दशी रात्रि 03:27 बजे तक, पश्चात पूर्णिमा तिथि
-इन्दौर का सूर्योदय : प्रातः 07:12 बजे
-इन्दौर का सूर्यास्त : सायं 06:01 बजे
-अयन : उत्तरायन
-ऋतु : शिशिर
-नक्षत्र : आर्द्रा रात्रि 02:52 बजे तक, पश्चात पुनर्वसु
-योग : ऐन्द्र अपराह्न 04:24 बजे तक, पश्चात वैधृति योग
-राहुकाल : स्थानीय समयानुसार अपराह्न 04:30 से 06:00 बजे तक
-दिशाशूल – पश्चिम दिशा में
-पौष रविवार सूर्य व्रत है।

कल सोमवार 17 जनवरी 2022 के व्रत – पर्व – उत्सव
-पूर्णिमा व्रत।
-माघ स्नान प्रारम्भ।
-प्रयाग में एक मास का कल्पवास प्रारम्भ।

विजय अड़ीचवाल