Indore : पैसे लेकर भागा कथावाचक, महिलाओं ने लगाया आरोप

इंदौर (Indore) से हाल ही में एक कथावाचक अजीत सिंह चौहान (Ajit Singh Chauhan) उर्फ प्रभु महाराज (Prabhu Maharaj) की एक बड़ी खबर सामने आई है।

इंदौर (Indore) से हाल ही में एक कथावाचक अजीत सिंह चौहान (Ajit Singh Chauhan) उर्फ प्रभु महाराज (Prabhu Maharaj) की एक बड़ी खबर सामने आई है। उन्होंने कहा है कि – ‘पिछले साल 2021 के फ़रवरी महीने में मेरी भागवत कथा थी। सभी श्रद्धालुओं ने अपने मन से लाखों का चढ़ावा चढ़ाया था। इंदौर में कथा खत्म होने के बाद मैंने अपनी अगली कथा की तैयारी हरिद्वार (Haridwar) में कर दी थी। इस अगली कथा की घोषणा जब इंदौर में की तो यहां के श्रद्धालुओं की भी आने की इच्छा हुई और उन्होंने पैसे भी दिए। इसके बाद मैं हरिद्वार में टेंट, कैटरिंग से लेकर बिजली, साउंड सिस्टम लगाने वालों की हर चीज़ की बुकिंग करता गया। इन सभी के पेमेंट मैंने एडवांस में कर दिए थे। इसके साथ ही मैं इंदौर के श्रद्धालुओं के संपर्क में भी रह रहा था। लेकिन फिर 25 मार्च से लॉकडाउन लग गया और सारा कार्यक्रम अस्त-व्यस्त हो गया। मैं किसी के साथ भी छल नहीं करना चाहता था लेकिन इस लॉकडाउन की वजह से मैं श्रद्धालुओं की नज़रों में गिर गया।’

ये सारी बातें इंदौर में भगवत कथा करने वाले और श्रद्धालुओं से 30 लाख की ठगी करने वाले आरोपी अजीतसिंह चौहान उर्फ प्रभु महाराज ने पुलिस के सामने कबूली है। आरोपी अजीतसिंह को एक दिन की रिमांड पर रखने के बाद उसे फिर जेल भेज दिया। अजीतसिंह ने बताया कि उसने पिछले 5 सालों में देश के कई शहरों में भागवत की है।

भागवत कथा की पढ़ाई की है

कथावाचक अजीत सिंह चौहान उर्फ प्रभु महाराज 28 साल के है और गुजरात के अमरेली जिले की लीलिया तहसील के रहने वाले है। यह सिर्फ आठवीं तक ही पढ़े है। इसके माता-पिता किसान थे, परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी इसलिए यह सिर्फ आठवीं तक ही पढ़े है, फिर स्कुल छोड़ने के बाद इन्हें भगवान में काफी रूचि थी इसलिए पास के एक आश्रम में भागवत कथा सिखने जाना शुरू कर दिया। कुछ ही सालों में इन्हें भागवत के सारे ही श्लोक याद हो गए थे। इसके बाद इन्होने इलाके में कथा करना शुरू किया था।

Also Read – Indore : विधायक शुक्ला की छठी यात्रा, नगीन नगर से 600 नागरिक अयोध्या के लिए होंगे रवाना

कथा में हुआ कोविड का असर

आरोपी ने पुलिस को कहा कि इंदौर में श्रद्धालुओं से रुपए लेने के बाद लगभग इंदौर के अधिकतर श्रद्धालुओं से बात करता रहता था और मेरा पूरा मन हरिद्वार में होने वाली कथा के आयोजन में लगा हुआ था। लेकिन लॉकडाउन की वजह से जो एडवांस में मैंने अमाउंट दिया था वो पूरा डूब गया और मैं श्रद्धालुओं की नज़रों से गिर गया।

महिलाओं ने की शिकायत

पीड़ित महिलाओं ने पिछले हफ्ता महाराज पर ठगी का आरोप लगाया और कलेक्टर जनसुनवाई में शिकायत की थी। महिलाओं ने कहा कि पंडित जी ने पहले पूरी तरह से विश्वास दिलाया और फिर हमारे ही साथ विश्वासघात किया। महिलाओं के अनुसार पंडितजी की जो कथा हरिद्वार में होने वाली थी उसका सीधा प्रसारण आस्था चैनल पर दिखाने की भी बात कही थी। इसके साथ ही किराया देने और हरिद्वार में श्रद्धालुओं के रुकने और खाने-पीने की व्यवस्था भी आयोजन समिति ही करेगी यह बात भी पंडितजी ने ही कही थी।

पंडित जी ने फोन भी नहीं उठाया

पीड़ित महिलाओं ने यह भी बताया कि इंदौर से जाने के बाद हमने पंडितजी को बहुत बार फोन भी लगाया था लेकिन उन्होंने एक भी कॉल नहीं उठाया एक दिन सामने से पंडितजी का कॉल आया और उन्होंने कहा कि अगर किसी ने भी मेरे खिलाफ शिकायत दर्ज कराई तो किसी को भी एक रूपया नहीं मिलेगा और भागवत कथा भी नहीं होगी।

Also Read – Indore: ड्रग्स और नशे के खिलाफ इंडेक्स मेडिकल ग्रुप ने चलाई की मुहिम