Homeदेशसोशल मीडिया ने निखारी बच्चों की कला

सोशल मीडिया ने निखारी बच्चों की कला

लॉकडाऊन के बाद डिजिटल सेक्टर में आया बड़ा बूम युवा ने उठाये आत्मनिर्भर भारत की ओर कदम।

आपकी मुस्कान जन जागृति समिति संस्था सचिव शालिनी रमानी ने बताया गत वर्ष के सर्वे यह बतातें हैं की भारत एक कला प्रदान देश है,अफसोस कि बात यह है कि भारत के रहवासी अपनी खूबियों को नहीं पहचान पा रहें हैं,कारण शिक्षा की कमी और इसी कमी का विदेशी भरपूर फायदा उठा रहें हैं।

आज विदेशी भारत से अपने देशवासियों को नौकरी पे रखकर अपने देश की इकॉनमी बड़ा रहें हैं,और भारत वासी गर्व से कहतें हैं हमारे बच्चे विदेश में नौकरी कर रहें हैं।

अगर कोई इस बात को गहराई से समझने की कोशिश करे तो यह समझ पायेगा विदेशी कल भी भारत को अपना गुलाम बनाने का प्रयास कर रहे थे और आज भी इनडायरेक्टली विदेशी कम्पनियाँ भारत की कला का उपयोग कर नेटवर्क और चेन ग्रुप ऑफ कंपनीज़ के माध्यम से भारत को गुलाम बनाने का प्रयास कर रहीं है।

और इस बात को युवा समझ भी रहा है इसलिए आज तकनीकियों के माध्यम से आज भारत डिजिटल मार्केटिंग से अपनी कला को देश विदेश में पहुँचाने का प्रयास कर रहा है।

पटेल कॉलेज में आपकी मुस्कान कला केंद्र की ऑडिशन के दौरान जहाँ सब बच्चे अपनी एक्टिंग,डांस, सिंगिंग का प्रदर्शन कर रहें थे वहीं एक युवा श्रवण चौहान ने अपनी पब्लिक स्पीकिंग कौशल का प्रदर्शन किया।

श्रवण ने बहुत ही बखूबी तरह से बच्चों को समझाने का प्रयास किया,की वह आत्मनिर्भर भारत का हिस्सा है और उसने डिजिटल मार्केटिंग का चयन कर अपने शौक को अपना रोज़गार बनाया है।

श्रवण ने बताया उसने डिजिटल तकनीकी को अपनाकर घर बैठे 1 लाख 70 हज़ार रुपये कमाए।

आज हर बच्चा चाहे तो अपने हुनर का प्रदर्शन करके डिजिटल मार्केटिंग के माध्यम से पैसा कमा सकता है।

श्रवण ने बताया डिजिटल मार्केटिंग की प्रेरणा उसे लॉक डाऊन में मिली उसने कहा लोगों के लिए देश रुक गया था मगर मुझे पुरी दुनिया मेरे फोंन में दिख रहीं थी,उसे लगा जब मैं घर बैठे पूरी दुनिया को देख सकता हूँ तो अगर मैं प्रयास करूँ तो पूरी दुनिया भी मुझे देख सकती है।

और मैंने अपने वीडियो वायरल करना शुरू किए और वीडियो वायरल करते करते मैं फेमस हो गया ।

श्रवण ने सरकार से मांग की है बच्चों को डिग्री के लिए नहीं उनकी कला को उजागर करने के लिए पढ़ाया जाए,जो फीस बच्चा क्लास में जबरदस्ती बैठने के लिए दे रहा है अगर वहीं फीस वह बच्चा अपने हुनर को बढ़ाने में लगाये तो भारत का हर बच्चा आज भारत की आर्थिक स्तिथि बढ़ाने का प्रयास करेगा।

अगर आज स्कूल और कॉलेज अपने कोर्स कला के आधार पर कर दें तो हर बच्चा पढ़ने की तम्मना रखेगा।

कला की दुनिया में अपनी कला का प्रदर्शन करने के लिए करीब सौ बच्चों ने दिलचस्पी दिखाई करीब 5 बच्चों को फिल्मी जगत से क्रिएटिव डायरेक्टर मयूर दा ने अपनी आने वाली वेब सिरीज़ के लिए सेलेक्ट किया जिसमें से एक गाने की शूटिंग भी पटेल ग्रुप ऑफ इंस्टिट्यूट में हुई,ये बच्चे एक्टर सिद्धार्थ वरुण के साथ डायरेक्टर विपुल मेहरा के साथ कार्य करेंगे।

RELATED ARTICLES

Stay Connected

9,992FansLike
10,230FollowersFollow
70,000SubscribersSubscribe

Most Popular