तो ठण्ड में मुहं से भाप इसलिए निकलती हैं! क्या आप जानते हैं?

क्या आपने कभी सोचा हैं कि ठंड बढ़ते ही मुंह से भाप क्यों निकलने लगती है? और यही भाप गर्मियों के मौसम में कहां चली जाती होगी?

क्या आपने कभी सोचा हैं कि ठंड बढ़ते ही मुंह से भाप क्यों निकलने लगती है? और यही भाप गर्मियों के मौसम में कहां चली जाती होगी? तो पढ़िए हमारी ये पोस्ट जिसमें आप जान पाएंगे कि ठंड बढ़ते ही मुंह से भाप क्यों निकलने लगती है?
तो हम आपको बता दे कि सर्दियों में मुंह से सांस छोड़ते समय जो भाप निकलती हैं उसका कारण बड़ा ही आसान हैं। ये तो हम जानते ही हैं कि हमारे शरीर का औसत तापमान डिग्री सेल्सियस में 37 डिग्री सेल्सियस जबकि यही तापमान फारेनहाइट पैमाने पर 98.6 डिग्री फारेनहाइट के आसपास होता है। लेकिन सर्दियों में बाहरी वातावरण का तापमान, हमारे शरीर के औसत तापमान से कम होता हैं जिस कारण सर्दियों में सांस छोड़ते समय शरीर के भीतर से गर्म हवा बाहर निकलती है। और जैसे ही साँस द्वारा छोड़ी गई गर्म हवा शरीर से बाहर निकलकर ठंडे वातावरण से मिलती है, तो उसका वाष्पीकरण होने लग जाता है। और इसी वजह से सर्दियों में मुहं से भाप निकलती दिखती हैं।

must read: सूदखोर महिला से परेशान था परिवार, फिर पुलिस ने किया कुछ ऐसा, पढ़े यहां

लेकिन इसके उलट गर्मियों में वातावरण का तापमान, शरीर के तापमान से कम नहीं होता बल्कि ज्यादा ही होता हैं इसलिए गर्मियों में सांस छोड़ते समय शरीर के भीतर से निकलने वाली हवा, वातावरण में आसानी से मिल जाती हैं और भाप नहीं निकलती।