रतलाम : आयकर की बड़ी कार्रवाई, छापेमारी से मचा हड़कंप | Ratlam Big Task of Income Tax raiding raid

0
186
income tax

रतलाम। आयकर विभाग ने एक बार फिर रतलाम शहर शराफा में बड़ी कार्रवाई करते हुए कई ठिकानों पर छापेमारी की। शुक्रवार को चार प्रतिष्ठानों पर आयकर विभाग की टीम ने छापेमारी की है। जब आयकर टीम की वाहन ज्वैलर्स के शो-रूम के बाहर पहुंचे तो हड़कंप मच गया। दो दिनों से शहर के प्रॉपर्टी और एक सोना-चांदी कारोबारी के प्रतिष्ठानों पर सर्चिंग के बाद आयकर की कई टीमों ने एकसाथ शहर के 5 बड़े बाजारों में कार्रवाई की है।

आयकर की टीम सबसे पहले शहर के चांदनी चौक गोल बाजार पर पहुंची और सीधे हीरामणली ज्वैलर्स पर दस्तक दी। इसके बाद लुनावत ज्वैलर्स और गहना ज्वैलर्स के यहां आयकर टीम ने सर्वे शुरू कर दिया है। एक अन्य प्रतिष्ठान के बाहर भी टीम का वाहन खड़ा हो गया है। हालांकि अधिकृत जांच अब तक शुरू नहीं हुई है। आयकर टीम का लगातार यह तीसरा दिन है, जब रतलाम शहर के सराफा बाजार में कार्रवाई की शुरूआत की है।

मप्र के आधा दर्जन शहरों पर आयकर विभाग का छपा

पिछले महीने मध्यप्रदेश के मंदसौर, नीमच, गरोठ, सुवासरा सहित आधा दर्जन स्थानों पर आयकर विभाग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए तेल कंपनियों में छापेमारी की है। मंदसौर की टीम ने बुधवार सुबह गणेश वाटिका स्थित अमृत रिफाइनरी और कंपनी के मालिक के घर छपा मारा।

मंदसौर के अलावा आयकर विभाग की एक टीम नीमच में जमुनियाकला इलाके में तेल की बड़ी धानुका रिफाइनरी इंडस्ट्री, तो एक टीम जावरा की अंबिका रिफाइनरी पहुंची। बताया जा रहा है कि यह छापेमारी आय की सही जानकारी नहीं दिए जाने पर की गई थी।

आयकर के सर्च एंड सीजर संबंधित प्रावधानों पर सेमिनार

इंदौर सीए शाखा के चेयरमैन सीए अभय शर्मा ने बताया कि वर्तमान में आयकर के अधिकांश एसेसमेंट सेल्फ एसेसमेंट द्वारा किए जा रहे हैं। इसमें विभाग को वांछित कर संग्रह नहीं हो पाता है। कर अपवंचन रोकने के लिए विभाग द्वारा सर्च एंड सीजर (छापे तथा जब्ती) की कार्यवाही समूचे भारतवर्ष में तेजी से की का रही है। आयकर कानून में सर्च एंड सीजर से संबंधित प्रावधानों में कई जगह अस्पष्टताएं तथा भ्रांतियां मौजूद हैं जिन्हें दूर करने के लिए तथा महत्वपूर्ण प्रावधानों के अध्ययन तथा परिचर्चा हेतु एक महत्वपूर्ण सेमिनार का आयोजन जनवरी में सीए भवन इंदौर में किया गया था।

सीए शर्मा ने बताया कि सर्च एंड सर्वे की कार्यवाही किसी भी करदाता के जीवनकाल में होने वाली सबसे बड़ी और कठोर कार्यवाही है तथा इसमें स्टेटमेंट देने से लेकर केस के सभी स्टेज पर सावधानी रखने की आवश्यकता होती है।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here