श्योपुर जिला अस्पताल में मरीज गर्मी में हुए बेहाल, AC और प्रशासन दोनो ही कोई काम का नहीं

श्योपुर के जिला अस्पताल में अनदेखी का आलम देखा जा रहा है. जनता गर्मी से बेहाल है लेकिन प्रशासन का इस ओर कोई ध्यान नहीं है.

Indore: यहां हम बता दे कि इस शहर को प्रदेश का आखरी जिला कहे या जिले की दुर्दशा यहां चंद अधिकारियों को छोड़ बाकी बस खाना पूर्ति कर रहे है, जी हां यदि आप या आपके परिवार का कोई सदस्य गंभीर बीमार है तो श्योपुर जिला अस्पताल में सोच समझ कर ही उसे ले जाए या तो अपने साथ हाथ पंखा या पंखा ही जरूर लेकर जाए. यह हम नहीं कह रहे हैं बल्कि यह स्थिति जिला अस्पताल खुद ब खुद बयां कर रहा हैं.

 

जिला अस्पताल के आई सी यू वार्ड में पिछले तीन दिनों से AC बंद पड़ा हुआ है. यहां न तो कूलर की व्यवस्था है ना पंखों की कोई व्यवस्था है. आई सी यू वार्ड में भर्ती मरीज व उनके परिजन इस भीषण गर्मी में परेशान होकर तौलिए से पसीना पोछते देखे जा सकते है. इस संबंध मे सिविल सर्जन डॉ आर बी गोयल से मोबाइल पर चर्चा की गई तो उन्होंने जवाब दिया कि वे स्वयं चार पांच दिन से वार्ड में भ्रमण पर गए ही नहीं है ओर उन्हें इस संबंध में जानकारी भी नहीं है. तो हम पूछते है साहब आप खुद के डिपार्टमेंट के ही समय-समय पर भ्रमण नही करते हैं तो फिर कौन से कार्य व विभागों का भ्रमण कर रहे है?

सी एमएचओ डॉ. बी.एल. यादव  से बात करने पर उनका मोबाइल व्यस्त चल रहा था. ज्ञात हो ज़िला कलेक्टर शिवम् वर्मा द्वारा जिला अस्पताल की अव्यवस्था को मद्देनजर रखते हुए नायब तहसीलदार से लेकर अपर कलेक्टर तक की ड्युटी प्रत्येक दिन निरीक्षण हेतु लगाई गई हैं लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि ये अधिकारी जिला कलेक्टर को गुमराह करते हुए सिविल सर्जन व सी एम एच ओ के कक्ष में चाय नाश्ता कर इति श्री कर अपना फर्ज निभा कर चलते बनते हैं. क्योंकि तीन दिनों से आई सी यू वार्ड का बंद AC अधिकारियों की कर्तव्य निष्ठा को बयां कर रहा है. इस ओर शासन-प्रशासन की अनदेखी चल रही है, अब देखना यह है कि जिला कलेक्टर इस और क्या कदम उठाते हैं.

खबर: संजय यादव (श्योपुर,इंदौर)