मरीज और डॉक्टर के बीच की सबसे मजबूत कड़ी है नर्स, मेदांता हॉस्पिटल ने किया सम्मानित

नर्सेस को समर्पित इस सप्ताह के दौरान की गईं गतिविधियों में मेडिकल से संबंधित क्विज़ और पोस्टर मेकिंग कॉम्पिटिशंस किए गए, जिसमें मेदांता की सभी यानि लगभग 200 नर्सेस ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।

इंदौर: इलाज के दौरान डॉक्टर की सबसे बड़ी सहयोगी यदि कोई होती है, तो स्पष्ट तौर पर वह नर्स होती है। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि मरीजों के इलाज और उनकी स्वास्थ्य देखभाल में नर्स का बहुत बड़ा योगदान होता है। मरीज की हर एक छोटी से लेकर बड़ी बात का ध्यान रखना, उनकी डाइट, दवाई आदि का विशेष ख्याल रखना, ये सब एक नर्स की निगरानी में ही बेहतरी से संभव है। इसे गहनता से स्वीकार करते हुए इंदौर के अग्रणी हॉस्पिटल्स में से एक, मेदांता सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल ने सात दिन का इंटर्नल इवेंट (नेशनल नर्सेस वीक) मनाया, जिसमें कई गतिविधियों का आयोजन किया गया। इस समारोह के समापन के दौरान मेदांता हॉस्पिटल के ग्रुप सीईओ, पंकज साहनी मौजूद रहे, जिनके मार्गदर्शन में पुरस्कार वितरण और कैक कटिंग की गई।

वर्ष 2020 में आई कोरोना महामारी के दौरान अपनी जान की परवाह किए बिना मरीजों की सेवा करने वाली नर्सेस के अभूतपूर्व योगदान के बारे में बताते हुए पंकज साहनी (ग्रुप सीईओ) कहते हैं, “कोरोना से जंग लड़ने में तमाम नर्सेस ने फ्रंटलाइन वॉरियर्स की भूमिका निभाई है, जिसे दुनिया कभी नहीं भुला सकती। मेदांता की नर्सेस ने भी संक्रमण की परवाह किए बगैर जी-जान से मरीजों की सेवा की। मेरा ऐसा मानना है कि कोविड योद्धा कहलाने वाली नर्सेस असल जिंदगी में भी किसी योद्धा से कम नहीं हैं।”

Must Read- Startup Conclave 2022: स्वच्छता के साथ स्टार्टअप हब में भी सिरमौर बनेगा इंदौर

मेदांता सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल के नर्सिंग हेड, जोबिन थॉमस, नर्सेस के योगदान के लिए कहते हैं, “नर्सेस का मरीज की देखभाल करने में हमेशा से ही योगदान सराहनीय है। मेदांता की नर्सेस यहाँ की सबसे मजबूत टीम का अहम् हिस्सा हैं। हर वर्ष मनाया जाने वाला यह एक अत्यंत महत्वपूर्ण सप्ताह है, क्योंकि इस सप्ताह पूरे देश में नर्सेस के महत्व, उनके अपार योगदान और उपलब्धियों के प्रति सम्मान जाहिर किया जाता है।”

गौरतलब है कि नर्सेस को समर्पित इस सप्ताह के दौरान की गईं गतिविधियों में मेडिकल से संबंधित क्विज़ और पोस्टर मेकिंग कॉम्पिटिशंस किए गए, जिसमें मेदांता की सभी यानि लगभग 200 नर्सेस ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। समारोह के समापन के दौरान अपने अभूतपूर्व और कर्तव्यों की सीमा से परे जाकर योगदान देने वाली इन फ्रंटलाइन वॉरियर्स को मिस्टर साहनी द्वारा एक्स्ट्रा माइल और बेस्ट नर्सिंग अवॉर्ड्स से सम्मानित किया गया।

सार्वजनिक स्वास्थ्य की सुरक्षा में नर्सेस अपरिहार्य हैं। चाहे कोई भी हॉस्पिटल हो, नर्सेस मरीजों की देखभाल में अहम् भूमिका निभाती हैं और साथ ही मरीज और डॉक्टर के बीच की सबसे मजबूत कड़ी के रूप में उभरकर सामने आती हैं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि जब मरीज को देखभाल की आवश्यकता होती है, तो नर्सेस अथक प्रयास से इसमें खरी उतरती हैं। मेदांता सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल दुनिया की हर एक नर्स के जज़्बे को सलाम करता है।