जल्लाद की तलाश में तिहाड़ जेल, निर्भया के दोषियों को जल्द हो सकती है फांसी

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से अनुशंसा की थी कि 23 वर्षीय पैरा मेडिकल छात्रा से दुष्कर्म कर उसकी हत्या के मामले में एक दोषी विनय शर्मा की दया याचिका खारिज कर दी जाए।

0
92
death

नई दिल्ली: हैदराबाद की महिला डॉ के साथ दरिंदगी करने वाले हैवानों को पुलिस ने एनकाउंटर कर मार दिया। इसके बाद ही निर्भया के दोषियों को भी फांसी देने की मांग तेज हो गई। इसी बीच खबर आई है कि निर्भया के दोषियों को भी जल्द फांसी हो सकती है। इसके लिए तिहाड़ जेल जल्लाद की तलाश में जुट गया है। निर्भय के दोषी तिहाड़ जेल में ही बंद है।

सूत्रों के मुताबिक दिल्ली की तिहाड़ जेल में कोई जल्लाद नहीं होने के कारण जेल प्रशासन ने जल्लाद मुहैया कराने के लिए देश की अन्य जेलों से संपर्क किया है। सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से अनुशंसा की थी कि 23 वर्षीय पैरा मेडिकल छात्रा से दुष्कर्म कर उसकी हत्या के मामले में एक दोषी विनय शर्मा की दया याचिका खारिज कर दी जाए।

शनिवार को निर्भया कांड के दोषी विनय शर्मा ने राष्ट्रपति के पास एक दया याचिका भेजकर अपील की थी कि गृहमंत्रालय ने उसकी जो दया याचिका उन्हें भेजी है उसे तुरंत वापस कर दें। विनय शर्मा ने अपनी ताजा याचिका में कहा था कि जो दया याचिका गृहमंत्रालय ने राष्ट्रपति को भेजी है उसमें न तो उसके हस्ताक्षर हैं और न ही उसके द्वारा अधिकृत है, इसलिए राष्ट्रपति उसे वापस कर दें।

गौरतलब है कि 16 दिसंबर 2012 की रात निर्भया के साथ गैंगरेप कर उसकी हत्या कर दी थी। इस मामले में इन चारों दोषियों को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई थी लेकिन एक आरोपी ने सुनवाई के दौरान ही खुदकुशी कर ली थी। एक दोषी को नाबालिग होने की वजह से तीन साल सुधार गृह में रखने के बाद रिहा कर दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here