मध्य प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री तथा कांग्रेस विधायक जयर्वधन सिंह ने शिवराज को लिखे पत्र में स्वास्थ्य विभाग और मंत्री पर सदन में आयुष्मान योजना को लेकर गलत जानकारी देने तथा फर्जीवाडा का आरोप लगाया है। उन्होंने लिखा कि सदन में दिया गया जवाब और आयुष्मान पोर्टल पर दी गई जानकारी अलग-अलग है।

सदन में प्रतुत किये गए गलत आंकड़े

जयवर्धन सिंह ने अपने पत्र में लिखा है कि मेरे द्वारा सदन में पूछे गए प्रश्न पर जो जवाब मिला है तथा सदन में जो आंकड़े प्रस्तुत किए गए हैं वो आयुष्मान विभाग के पोर्टल के अलग हैं। दोनों जानकारी सही नहीं हो सकती। विभाग के विरोधाभासी, मनगढ़ंत और झूठे उत्तर को सदन में प्रस्तुत करने पर घोर आपत्ति तथा आश्चर्य व्यक्त करता हूं। उन्होंने कहा कि लिखित जवाब और पोर्टल के आंकड़ों में हेर-फेर किया गया है। सदन में दी गई जानकारी के अनुसार भोपाल में आयुष्मान योजना में 114 अस्पताल जुड़े हैं। वहीं, आयुष्मान विभाग के पोर्टल पर भोपाल जिले में लगभग 213 अस्पताल रजिस्टर्ड हैं।

Also Read : Corona-19 को लेकर केंद्र सरकार ने जारी की एडवाइजरी, क्या नए साल के जश्न में पाबंधिया बनेगी रोड़ा?

घोटाले की कराई जाए सीबीआई मांग

जयवर्धन सिंह ने लिखा कि उन्होंने अस्पतालों पर कार्रवाई के संबंध में जानकारी मांगी तो उसका जवाब भी अधूरा दिया गया है। जवाब में 154 निलंबित चिकित्सालय बताए हैं, जबकि पोर्टल पर ऐसे अस्पतालों की संख्या 318 है। इसमें 10 जिलों में चिकित्सालयों के निलंबन संबंधी जानकारी पोर्टल पर नहीं दी गई। उन्होंने लिखा कि मुख्यमंत्री से अनुरोध है कि संपूर्ण तथ्यों की परीक्षा कराएं और मेरे द्वारा उपलब्ध जानकारी के आधार पर संपूर्ण महाघोटाले की जांच सीबीआई को सौंपने की कार्यवाही सुनिश्चित करें।