चीन लगातार कोविड-19 को लेकर सभी देशों की मुश्किलें बढ़ाते जा रहा है। जहां चीन में इस वक्त नए वेरिएंट से कई लोगों की जान जा चुकी है। वही नए वेरिएंट BF-7 के चार से पांच मामले भारत में भी पांए गए है। इससे भारत सरकार एक्टीव हो गई है। बीते दो-तीन दिनों से लगातार हाई लेवल की मीटिंग का दौर जारी है। वही शुक्रवार को केंद्रीय स्वस्थ्य मंत्री मनसुख मंडविया ने देश के समुचे राज्य के स्वस्थ्य मंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग की गई। इस दौरान उन्होंने कोरोना रोकथाम की तैयारियों के बारें में चर्चा की गई।

सभी राज्यों को किया अलर्ट

मनसुख मंडाविया ने बैठक में सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को आने वाले त्योहारों और नए साल के जश्न को ध्यान में रखते हुए ‘टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट एंड वैक्सीनेशन’ पर ध्यान देने को कहा। इसके अलावा उन्होंने मास्क पहनने, हाथ साफ रखने और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने जैसे कोविड प्रोटोकॉल का पालन कराने का निर्देश दिया है।

केंद्र ने नियमित तौर पर जिलेवार इन्फ्लुएंजा जैसी बीमारी और सांस से जुड़ी गंभीर बीमारियों के मामलों की निगरानी और रिपोर्टिंग करने के लिए कहा है। उन्होंने सभी राज्यों को अलर्ट पर रहने और कोविड-19 प्रबंधन के लिए पूरी तैयारी रखने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्यों को सहयोग की भावना से काम करने की जरूरत है, जैसा कि हमने पिछली बार आई लहर के दौरान किया है।

अस्पतालों को दिया आदेश

गाइडलाइंस के मुताबिक राज्यों को हर जिले में कोविड नियमों के तहत आरटी-पीसीआर और एंटीजन टेस्ट बढ़ाने के लिए कहा गया है। उनसे कहा गया है कि नए वेरिएंट का समय से पता लगाया जा सके इसलिए ज्यादा से ज्यादा केसों की जीनोम सीक्वेंसिंग कराने के निर्देश दिए जाएं। अस्तपतालों में कोविड से निपटने के संसाधनों और स्टाफ को तैयार रहने के निर्देश देने को कहा गया है। इसे अलावा कहा गया है कि तैयारी देखने के लिए ड्राय रन भी करा सकते हैं।राज्यों से वैक्सिनेशन बढ़ाने के लिए जागरूकता अभियान चलाने के लिए कहा गया है। इसके अलावा बूस्टर डोज का कवरेज बढ़ाने के लिए भी कहा गया है।

विदेश यात्रियों के लिए अनिवार्य कोविड टेस्ट

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने गुरुवार को कहा कि कई देशों में कोविड-19 के मामलों में उछाल के मद्देनजर भारत ने देश में आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों में से 2 प्रतिशत के सैंपल लेने शुरू कर दिए हैं। अगर जरूरी हुआ तो विदेशी यात्रियों के लिए कोविड टेस्ट अनिवार्य करने पर विचार कर सकता है।

हाई लेवल की मीटिंग में दिखे एक्सपर्ट

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कोरोना को लेकर हाईलेवल मीटिंग में देश में कोरोना की स्थिति की समीक्षा की थी। बैठक के बाद मनसुख मंडाविया ने ट्वीट किया था कि कुछ देशों में कोरोना के बढ़ते केसों को देखते हुए एक्सपर्ट के साथ बैठक की। अभी कोरोना खत्म नहीं हुआ है। मैंने सभी संबंधितों को सतर्क रहने और निगरानी तेज करने के निर्देश दे दिए हैं। उन्होंने कहा कि हम किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं।

मंत्रालय ने सभी राज्यों को अलर्ट भेज दिया है। सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को एडवाइजरी जारी की, जिसमें कहा है कि नए कोविड पॉजिटिव मरीजों का सैंपल जीनोम टेस्टिंग के लिए भेजा जाए, ताकि वहां इस सैंपल का जिनोम सीक्वेंसिंग हो सके और अगर कोरोना का कोई नया वेरिएंट पनपता है तो उसे ट्रैक किया जा सके।

राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को लिखे पत्र में, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा है कि इस तरह की कवायद से देश में मौजूद नए वेरिएंट का समय पर पता लगाने में मदद लेगी और फिर इसके आधार पर केंद्र सरकार आवश्यक सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों की सुविधा प्रदान करेगी।