18 महीने का बच्चा कर रहा चुनाव प्रचार, हो रही है चर्चा

0
rupali biswas

लोकतंत्र के महापर्व में कई तरह के रंग देखने को मिल रहे है। चुनाव में कुछ घटनाएं तो ऐसी भी होती है जिसकी रोचकता हमेशा बरकरार रखती है। चुनाव प्रचार में प्रत्याशी तरह-तरह के तरीके अपनाकर जनता को लुभाने की कोशिश करते है। इसी बीच एक रोचक तस्वीर सामने आई है पश्चिम बंगाल से।

डेढ़ महीने के बच्चे को लेकर कर रही प्रचार

दरअसल, पश्चिम बंगाल में एक महिला प्रत्याशी अपने डेढ़ साल के बच्चे को लेकर चुनाव प्रचार कर रही है। मामला पश्चिम बंगाल के नदिया जिले का है। यहां 25 साल की रुपाली विश्वास को टीएमसी से उम्मीदवार बनाया गया है।

पति थे विधायक

रुपाली के पति सत्यज‍ित व‍िश्वास विधायक थे। सरस्वती पूजा की रात घर के पास बने एक पंडाल में सरेआम किसी ने सत्यजित की गोली मारकर हत्या कर दी। ढाई महीने पहले तक रुपाली भी सामान्य महिला थी। रुपाली के आंसू सूखे भी नहीं थे कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उन्हें लोकसभा चुनावों के ल‍िए रानाघाट लोकसभा सीट से उम्मीदवार घोषित कर द‍िया।

महिलाएं हो रही भावुक

इस लोकसभा चुनाव में रुपाली बंगाल की सबसे युवा उम्मीदवार है। हर रैली में रुपाली के साथ उनका बेटा रहता है और वह जनता से अपील करती हैं क‍ि पत‍ि के अधूरे सपनों को पूरा करने के ल‍िए वे राजनीत‍ि में उतरी हैं।

स्थानीय लोग भी मान रहे हैं क‍ि मासूम बच्चे के कारण उनकी रैली में सहानुभूत‍ि का माहौल है। रैलियों में वे ज्यादा बोल नहीं पातीं। छोटे बच्चे को गोद में उठाए चुनाव प्रचार करते देख मह‍िलाएं भावुक हो रही हैं।

ऑस्ट्रेलिया जैसा होगा मामला

अब यदि रुपाली यहां से जीतकर संसद पहुंचती है तो यह मामला ऑस्ट्रेलिया जैसा हो जाएगा। ऑस्ट्रेलिया की एक महिला सांसद लारिसा वॉटर्स ने संसद में कार्यवाही के दौरान अपनी दो महीने की बच्ची आलिया जॉय को स्तनपान कराया था।

चौथे चरण में वोटिंग

पश्व‍िम बंगाल की रानाघाट सीट पर चौथे चरण यानी 29 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे। इस लोकसभा चुनाव में रानाघाट सीट से कुल 7 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। यहां से भाजपा ने जगन्नाथ सरकार को चुनाव मैदान में उतारा है तो वहीं मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने बिस्वास राम को अपना प्रत्याशी बनाया है।

चुनावी जंग