झारखंड : अवैध कैश बरामद होने पर कांग्रेस पार्टी की सख्त कार्यवाही, अपने ही तीन विधायकों को किया निलंबित

झारखंड के जिन तीन विधायकों से करोड़ों रुपए नगद बरामद किए हैं। ये तीनों ही झारखंड से कांग्रेस पार्टी के विधायक हैं, जिन्हें इस भ्रष्टाचार में संलिप्त पाए जाने पार झारखंड कांग्रेस ने अपनी पार्टी से निलंबित कर दिया था।

झारखंड (Jharkhand) में कांग्रेस दल ने अपनी पार्टी के तीन विधायकों पर निलंबन की कार्यवाही की है। इन तीनो विधायकों के पास से करोड़ो रुपए नगद पश्चिम बंगाल पुलिस ने हावड़ा (Howrah) में बरामद किए गए थे। यह बड़ी अवैध राशि उक्त विधायकों की एसयूवी गाडी के अंदर से बरामद की गई थी।

Also Read-उत्तर प्रदेश : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज जाएंगे अयोध्या, रामलला का करेंगे दर्शन और पूजन

यह हैं इन विधायकों के नाम

पश्चिम बंगाल पुलिस ने हावड़ा से झारखंड के जिन तीन विधायकों से करोड़ों रुपए नगद बरामद किए हैं, उनके नाम इस प्रकार हैं-जामताड़ा से इरफान अंसारी, खिजरी से विधायक राजेश कच्छप और कोंगारी सिमडेगा के कोलेबिरा से नमन विक्सेल कोंगारी। ये तीनों ही झारखंड से कांग्रेस पार्टी के विधायक हैं, जिन्हें इस भ्रष्टाचार में संलिप्त पाए जाने पार झारखंड कांग्रेस ने अपनी पार्टी से निलंबित कर दिया था।

Also Read-नेपाल : राजधानी काठमांडू में भूकंप के झटके, 5.5 मापी गई तीव्रता, बिहार के कुछ क्षेत्रों में भी असर

बरामद अवैध कैश को गिनने के लिए मंगाना पड़ी थी मशीन

पश्चिम बंगाल पुलिस के द्वारा हावड़ा से झारखंड के कांग्रेस विधायकों की एसयूवी गाडी से बरामद करोड़ों की अवैध नगद राशि को गिनने के लिए नोट गिनने की मशीन बुलानी पड़ गई थी। जानकारी के अनुसार हावड़ा के पंचला थाना क्षेत्र के रानीहाटी में नेशनल हाइवे-16 पर नाकाबंदी कर गाड़ी को रोका गया, जिसके बाद उनकी एसयूवी गाड़ी से यह बड़ी अवैध राशि बरामद हुई।

कांग्रेस ने लगाया था भाजपा पर विधायकों को खरीदने का आरोप

झारखंड कांग्रेस के तीन विधायकों के पास से हावड़ा में करोड़ो अवैध नगद राशि बरामद होने पर कांग्रेस पार्टी के द्वारा भारतीय जनता पार्टी पर अपने विधायकों को बरगलाने के साथ ही उनकी खरीद फरोख्त के भी आरोप लगाए गए थे। उनके द्वारा महाराष्ट्र में शिवसेना के बागी और वर्तमान में राज्य के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और बीजेपी के साथ मिलकर उध्दव ठाकरे सरकार को गिराने की साजिश की पुनरावर्ती झारखंड में किए जाने के आरोप लगाए गए थे।