विपिन नीमा

इंदौर। शहर में ट्रकों की आवाजाही के कारण ट्रैफिक काफी प्रभावित रहता है। साथ ही प्रदूषण भी फैलता है। शहर में ट्रकों की आवाजाही को बंद करने के लिए आईडीए जल्द ही टाउन एंड प्लानिंग स्कीम -3 (टीपीएस) में ट्रांसपोर्ट पार्क को विकसित कर रहा है। इस प्रोजेक्ट के लिए केन्द्र सरकार ने प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना के तहत आईडीए को 72 करोड़ रुपए स्वीकृत किए है।

इसमें से 50 करोड रुपए आईडीए के खाते में जमा हो चुके है बाकी 22 करोड़ मिलना शेष है। आईडीए की टीपीएस-3 योजना देवास नाका स्थित ग्राम अरंडिया के पास है। यहां पर कुल 143 हेक्टेयर जमीन है , जिसमे से 11 हैक्टेयर जमीन पर प्रदेश का सबसे बड़ा ट्रांसपोर्ट पार्क विकसित किया जाएंगा। इसको विकसित करने में
72 करोड़ रु की लागत आएगी।

Read More : Ghaziabad: 11वीं की छात्रा ने किया सुसाइड, अश्लील Video वायरल होने पर उठाया ये बड़ा कदम

पार्किंग न हो होने से ट्रक चाहे जहाँ खड़े कर दिये जाते है

जानकारी के मुताबिक शहर के बाहर रिंगरोड तथा बायपास की सड़कों के दोनों तरफ पार्किंग के अभाव में ट्रकों की कतार लगी रहती है, जिससे वाहनों का जाम लगना रहता है और दुर्घटना होने की संभावना बनी रहती है। ट्रकों की आवाजाही के कारण एक तो प्रदूषण फैलता हैऔर ट्रैफिक की परेशानी बनी रहती है। ट्रकों की परेशानी को दूर करने के लिए देवास नाका और ग्राम अंरडिया के बीच आईडीए ने योजना टीपीएस -3 पर 143 .04 हेक्टेयर जमीन में से 11 हैक्टेयर जमीन पर ट्रांसपोर्ट पार्क बनाने की तैयारी कर ली है।

पार्क में हो सकेगी 1 हजार ट्रको की पार्किंग व्यवस्था

उन्होंने बताया की टीपीएस -3 पर्याप्त जगह है। जो प्लान तैयार किया गया है उसके मुताबिक 143 में 11 हैक्टेयर जमीन ट्रांसपोर्ट पार्क के लिए है। इस पार्क पर लगभग 1 हजार ट्रकों की पार्किंग व्यवस्था रहेंगी। साथ ही ट्रक डायवरों के लिए सभी तरह की सुविधाएं रहेंगी। इसके अलावा आटोमोबाइल शॉप, विश्राम स्थल, रोड , लाइटिंग, डिस्पेंसरी, शौचालय, आफिसेस, आदि सुविधाएं रहेंगी।

Read More : बॉसी लुक में Rakul Preet Singh ने दिखाया बोल्ड अंदाज, कैमरे में कैद हुआ स्वैग

ट्रांसपोर्ट पार्क विकसित होने पर ये होंगे फायदे

● इससे शहर में परिवहन की सुगमता बढ़ेगी
● बायपास सड़क से जुड़े होने के कारण शहर में रहने वाले लोगों को कोई परेशानी नहीं होगी
● शहर के पूर्वी और पश्चिमी भाग सीधे जुड़ जाएँगे जिससे आने जाने के समय और परिवहन खर्च में बचत होगी (कार्बन उत्सर्जन में कमी होगी)
● शहर के आतंरिक नेटवर्क पर माल परिवहन का दबाव कम होगा
● अंतर राज्यीय परिवहन के पारगमन (ट्रांजिट) में मदद होगी
● माल का प्रवाह तेजी से होगा
● वर्तमान का ट्रांसपोर्ट नगर जिसे आई डी ए ने ही विकसित किया था अब शहर के बीच में आ गया है
● देवास, पीथमपुर और रतलाम औद्योगिक क्षेत्र के बीच औद्योगिक माल का आवागामन सुगम होगा
● शहरीय लोगिस्टिक हब के रूप में कार्य करेगा
● इससे व्यवस्थित परिवहन व्यवस्था मिलेगी।

ऐसा रहेगा ट्रांसपोर्ट पार्क प्रोजेक्ट

● योजना – प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना, ( भारत सरकार)
● प्रोजेक्ट स्थल – टीपीएस – 3
देवास नाका (ग्राम अंरडिया)
● कुल जमीन – 11 हैक्टेयर
● प्रोजेक्ट के लिए मिलेगी
72 करोड़ रुपए की राशि
● पार्क की क्षमता – लगभग 1 हजार ट्रकों की पार्किंग व्यवस्था
● अन्य सुविधाएं – आटो मोबाइल शॉप, आॅफिसेस, विश्राम स्थल, लाइटिंग, डिस्पेंसरी, शौचालय
● मास्टर प्लान के मुताबिक – 6.2 किलोमीटर रोड़ बनाई जाएंगी।

देवास नाका स्थित TPC-3 पर ट्रांसपोर्ट पार्क को विकसित करने के लिए काम शुरू किया जा रहा है। पार्क में सभी तरह की सुविधा उपलब्ध रहेगी। साल भर में पार्क तैयार कर लिया जाएगा – आरपी अहीरवाल – CEO ,IDA