इंदौर अग्निकांड: हादसे में बाल-बाल बची 5 ज़िंदगियां, बताया अग्नि का खौंफनाक मंजर

इंदौर अग्निकांड: इंदौर अग्निकांड के मामले को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है. दरअसल, इस अग्निकांड का आरोपी संजय उर्फ़ शुभम दीक्षित विजय नगर पुलिस द्वारा आज यानी रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया है.

इंदौर अग्निकांड: इंदौर अग्निकांड के मामले को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है. दरअसल, इस अग्निकांड का आरोपी संजय उर्फ़ शुभम दीक्षित विजय नगर पुलिस द्वारा आज यानी रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया है. जानकारी के अनुसार, इंदौर पुलिस ने आरोपी को शहर के लोहा मंडी से गिरफ्तार किया है. इस अग्निकांड के बाद आरोपी भागने की फ़िराक में था.

यह भी पढ़े – स्वर्णबाग अग्निकांड : 302 IPC के तहत शुभम दीक्षित पर केस दर्ज, फांसी संभव

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, शुक्रवार की रात इंदौर के स्वर्णबाग कॉलोनी में एक बिल्डिंग में अचानक आग लगने से हड़कंप मच गया था. वहीं, बिल्डिंग में लगी आग में करीब 7 लोग चपेट में आ गए थे. वहीं, इस हादसे में करीब पांच अन्य लोगों की जान बच भी गई थी. जिनमें विनोद सोलंकी, मुनीरा खान, तुषार प्रजापति, अरशद खान, और सोनाली पंवार शामिल थे.

विनोद सोलंकी ने बताया कि, मैं छत की तरफ भागा। मुश्किल से छत का दरवाजा खुला। जान बचाने पास की छत पर कूदा तो दोनों छतों के बीच से सीधे नीचे गिरा। जब पुलिस आई तो एमवाय पहुंचाया। मैं मूलतः विदिशा का हूं.

मुनीरा खान ने बताया कि, डेढ़ माह से फर्स्ट फ्लोर पर रह रही हूँ। धुंए से नींद खुली। अंधेरा छाया था। जैसे-तैसे गेट तक गई और उसे खोलकर बालकनी में पहुंची। पड़ोस की छत से एक शख्स ने हाथ पकड़कर खींचा।

तुषार प्रजापति ने कहा कि, मैं देवास का रहने वाला हूं। कल जॉब के लिए आया था। दोस्तों के साथ छत पर सो रहा था। रात 3 बजे विनोद जलता हुआ आया। वह नीचे फिर खिड़क कूद गया। मैं पड़ोस तोड़ने लगा की छत पर छलांग लगाने से बच गया.

अरशद खान ने कहा कि, मैं नागदा का हूं.फर्स्ट फ्लोर पर रहता हूं. धुएं से दम घुटने से नींद खुली. गेट की तरफ भागा, वह भी जल रहा था. फिर खिड़की को तोड़ने लगा। दो जाली निकालकर कूदा. मेरा पैर फ्रैक्चर हुआ है.

सोनाली पंवार ने बताया कि, मैं नागदा (रतलाम) की रहने वाली हूं। कुछ महीने पहले ही यहां फर्स्ट फ्लोर पर रहने आई हूं. मैं कॉल सेंटर पर काम करने के साथ-साथ पढ़ाई करती हूं। वो बहुत बुरा मंजर था। में किस्मत से बच गई.