Indore: 10 हजार कोरोना मरीज भी रोजाना आए तो भी नहीं लगेंगी पाबंदिया: कलेक्टर सिंह

इंदौर। मध्यप्रदेश में लगातार कोरोना के संक्रमण में इजाफा हो रहा है। इसी कड़ी में अब इंदौर (Indore) के कलेक्टर मनीष सिंह का बयान सामने आया है। शहर में कोरोना की तीसरी लहर में मरीजों की संख्या 2 हजार से ज्यादा ही आ रही है जबकि रफ्तार तो 1 जनवरी से ही बढ़ रही है। वहीं एक्सपर्टस ने फरवरी के दूसरे हफ्ते में तीसरी लहर के पीक के आने की आशंका जताई है लेकिन दिनों जिस तेजी से एक्टिव केसों की संख्या बढ़ रही है। बता दें कि, 1 जनवरी को 349 एक्टिव केस थे जो 17 दिनों में 30 गुना बढ़ गए।

ALSO READ: Indore: क्राइम ब्रांच की कार्यवाही, शातिर अज्ञात नकबजन एवं चोर को किया गिरफ्तार

ऐसे में संभव है कि जब फरवरी में कोरोना की तीसरी लहर पीक पर होगी तो एक्टिव मरीजों की संख्या भी काफी तादाद में होगी। साथ ही अब मामले में कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि अभी कोविड हॉस्पिटल एडमिशन 2% है। अगर यह ट्रेंड रहा तो 10 हजार मरीज भी आए तो बंद की आवश्यकता नहीं होगी।कलेक्टर ने कहा कि यह कोविड के हॉस्पिटल एडमिशन पर डिपेंड करता है। अगर हॉस्पिटल एडमिशन नहीं बढ़ता है तो चिंता की बात नहीं होती है। होम आइसोलेशन वालों को फोन कर फॉलोअप लिया जा रहा है व उनकी मॉनिटरिंग की जा रही है।

उन्होंने आगे कहा कि, अगर हॉस्पिटल एडमिशन की संख्या बढ़ती है और असर दिखता है तो फिर विचार किया जाएगा। चिंता तो अभी भी कर रहे हैं लेकिन जहां तक शहर की गतिविधियों को नियंत्रित करने को लेकर है ऐसी स्थिति नहीं है कि पाबंदियां बढ़ाई जाए। हम नजर रखे हुए हैं। अभी हॉस्पिटल एडमिशन को लेकर ट्रेंड चल रहा है कि 2% मरीज एडमिट हैं।अगर यही ट्रेंड चलता रहा तो 10 हजार मरीज भी आए तो किसी प्रकार के बंद करने की आवश्यकता नहीं आएगी। उधर, भाजपा जिला अध्यक्ष राजेश सोनकर भी पॉजिटिव पाए गए हैं जबकि स्मार्ट सिटी कार्यालय में भी 6 लोग कोरोना पॉजिटिव निकले हैं जिन्हें होम आइसोलेट किया गया है।