अन्य

नेपाल की नापाक हरकतें, पहले नक्शा, अब बॉर्डर पर बना रहा 500 चेकपोस्ट

नई दिल्ली: उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में बनी लिपुलेख सड़क के उद्घाटन के बाद से ही भारत-नेपाल पर सीमा पर तनाव बढ़ गया है। नेपाल ने बॉर्डर के इलाकों अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। सड़क के उद्घाटन के बाद से ही नेपाल लगातार भारत का विरोध जाता रहा है और कई गतिविधियां कर रहा है।

बनाए 500 चेकपोस्ट

नेपाल लगातार बॉर्डर पर हलचल तेज करता जा रहा है। अब नेपाली गृह मंत्रालय ने भारत और चीन से सटे बॉर्डर पर 500 नए चेकपोस्ट बनाने की कवायद पर काम शुरू कर दिया है। नेपाल की योजना के तहत, हर चेक पोस्ट पर एक प्लाटून सशस्त्र प्रहरी बल की तैनाती होनी है।

फ़िलहाल है 121 चेकपोस्ट

दरअसल, भारत और चीन से सटे नेपाल के इलाके में अभी उसके पास वर्तमान में 121 चेकपोस्ट है। इन चेक पोस्टों के जरिए नेपाल लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा में होने वाली हर गतिविधि पर आसानी से नजर रख सकता है।

थ्री लेयर सिक्यूरिटी में सुरक्षाबलों की तैनाती

इससे पहले छांगरू में बनाई गई स्थाई चेक पोस्ट में नेपाल ने सशस्त्र प्रहरियों के साथ नेपाल प्रहरी के जवानों को तैनात किया है। नेपाल बॉर्डर पर थ्री लेयर सिक्‍योरिटी के तहत सुरक्षाबलों की तैनाती करता है। इसमें, सबसे पहले बिना हथियारों के नेपाल प्रहरी तैनात रहते हैं, जबकि, सेकेंड लेयर पर तैनात सशस्त्र प्रहरी हथियारों से लैस रहते हैं। आखिरी और सबसे मजबूर लेयर में नेपाल की सेना की तैनाती होती है, जो सभी तहर के जरूरी हथियारों के साथ मौजूद रहती है।

लिपुलेख पर जताया हक़

इससे पहले लिपुलेख पर अपना आधिकारिक हक बताते हुए नेपाल ने अपना नया राजनीतिक नक्शा जारी किया है। इस नक्शे में लिम्पियाधुरा, लिपुलेख और कालापानी को भी शामिल किया गया है। भूमि प्रबंधन मंत्री पद्मा आर्याल ने सोमवार को हुई कैबिनेट की बैठक में यह नया नक्शा पेश किया जिस पर कैबिनेट में सहमति भी बनी।