नई दिल्ली। जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव का गुरुवार रात गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल में निधन हो गया था। उनके निधन पर राजनीतक जगत में शोक की लहर है। बिहार की राजनीति में अपनी अलग पहचान रखने वाले शरद यादव का जाना सभी को दुखी कर गया है।

शरद यादव के निधन पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर अन्य बड़े नेताओं ने शोक जताया है। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने भी शरद यादव के घर जाकर उनके पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन कर श्रद्धांजलि दी। इस दौरान अमित शाह ने कहा कि शरद यादव का निधन देश और देश की राजनीति के लिए अपूरणीय क्षति है। उन्होंने अपने पूरे जीवन में पिछड़ों और आम लोगों से जुड़े मुद्दों को उठाया। ईश्वर उनके परिवारजनों और समर्थकों को इस क्षति को सहन करने की शक्ति प्रदान करें।

Also Read – 31 जनवरी से शुरू होगा संसद सत्र, वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी को पेश करेंगी बजट

इसके साथ ही हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने शरद यादव को दिल्ली में छतरपुर स्थित उनके आवास पर पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की। राहुल गांधी शरद यादव के परिजनों से भी मिले। शरद यादव की बेटी और कांग्रेस नेता सुभाषिनी राज राव राहुल गांधी से गले मिलकर फूट-फूटकर रो रही थी। राहुल गांधी उन्हें संभालते हुए दिखे।

शरद यादव के निधन पर अरविंद केजरीवाल ने भी दुख जताया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि JDU के पूर्व अध्यक्ष श्री शरद यादव जी के निधन का दुखद समाचार मिला। उन्होंने हमेशा वंचित वर्गों के उत्थान के लिए काम किया, अपने मज़बूत राजनीतिक उसूलों पर क़ायम रहने वाले राजनेता के रूप में उन्हें हमेशा याद किया जाएगा। ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान दें। ॐ शांति।

कांग्रेस के पूर्व नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि यादव की कमी सभी को खलेगी। आजाद ने ट्वीट किया, पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव के निधन पर मैं संवेदना व्यक्त करता हूं। वह एक कद्दावर नेता थे जो हमेशा सबसे गरीब और सबसे कमजोर लोगों के साथ खड़े रहते थे। भारत के महान समाजवादी नेताओं में से एक शरद यादव को मेरी श्रद्धांजलि। उनकी कमी हम सभी को बहुत खलेगी।