भारत में लगातार मौसम तेज से बदल रहा है। इसी के साथ कुछ राज्यों में निरतंर बादल भी बरस रहे है। वही कई इलाकों में ठंडक भी बढ़ती जा रही है। दिल्ली में वायु गुणवत्ता का ग्राफ तेजी से निचे गिर रहा है। इससे दिल्ली वासियों कई मुश्किलें का सामना करना पड़ रहा है। हवा खराब होने की वजह से दिल्ली-एनसीआर में पाबंदियां लगा दी है।

दिल्ली-NCR में लगी पाबंदियां

देश की राजधानी दिल्ली में हवा की गुणवत्ता खराब होने के कारण फिर से निर्माण और तोड़फोड़ की गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (एक्यूएमसी) ने दिल्ली-एनसीआर में ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (GRAP) का तीसरा चरण लागू करने के निर्देश दिए हैं। बता दें कि रविवार शाम को दिल्ली का 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक यानी एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 407 दर्ज किया गया।

सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकॉस्टिंग एंड रिसर्च (SAFAR) के पूर्वानुमान के मुताबिक, नवंबर के अंतिम 3-4 दिनों में दिल्ली-एनसीआर से लेकर बिहार तक प्रदूषण का स्तर बेहद खराब स्तर पर रह सकता है।

बारिश का अलर्ट

दरअसल दक्षिण अंडमान सागर में एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र उभरने की सम्भावना दिखाई दे रही है जिसका असर दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल के साथ साथ अंडमान और निकोबार जैसे राज्यों पर पड़ेगा और यहाँ अगले कुछ दिनों तक हल्की से भारी बारिश की संभावना है।

Also Read : Heart Attack: साइलेंट किलर बनता जा रहा है हार्ट अटैक, कहीं आप तो नहीं कर रहे ये गलतियां?

तापमान में गिरावट

IMD के मुताबिक पहाड़ों पर हो रही बर्फ़बारी के कारण दिल्ली-एनसीआर, उत्तर और मध्य भारत के राज्यों में तापमान में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। मौसम विभाग के अनुसार पहाड़ी क्षेत्रों से आ रही सर्द हवाओं के कारण पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, दिल्ली समेत कई राज्यों में सर्दी बढ़ी है, आने वाले दिनों में सर्दी के और बढ़ने की पूरी संभावना है। मौसम विभाग ने दिल्ली-एनसीआर में दिसंबर के मध्य तक शीतलहर की संभावना जताई है।

समुद्र की स्थिति खराब

मौसम का पूर्वानुमान बताने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट के मुताबिक अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ भारी बारिश संभव है। दक्षिण अंडमान सागर के ऊपर समुद्र की स्थिति खराब रहेगी। हवा की गति 40 से 50 किमी प्रति घंटे हो सकती है, यह 60 किमी प्रति घंटे के आसपास पहुंच सकती है। तमिलनाडु और केरल के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश और लक्षद्वीप में हल्की बारिश संभव है।