सेहत : खाएं नाश्ते में अंकुरित अनाज, स्वस्थ रहेंगे कल, सक्रिय रहेंगे आज

अंकुरित अनाज सेहत और पौष्टिकता से भरपूर हैं। इसमें मुंग, काले चने, मोठ, गेंहूं, दालें, मटर, मैथीदाना आदि शामिल किए जा सकते हैं।सेहत से भरपूर हैं अंकुरित अनाज परन्तु कुछ सावधानियां भी हैं आवश्यक।

स्वस्थ जीवन (Healthy Life) के लिए पौष्टिक आहार का सेवन अत्यंत आवश्यक है। इसमें भी सुबह का नाश्ता सबसे महत्वपूर्ण माना गया है, जोकि दिनभर की कार्य ऊर्जा प्रदान करने वाला माना गया है। अतएव सुबह के नाश्ते का पौष्टिक होने बहुत ही आवश्यक है, जबकि फ़ास्ट फ़ूड जैसे हानिकारक खाद्यानों के सेवन से सभी को बचना चाहिए ।

Also Read-सातवां वेतन आयोग: केंद्रीय कर्मचारियों के डीए में हुई 4% की बढ़ोतरी, जानें कब से मिलेगा लाभ

सेहत से भरपूर हैं अंकुरित अनाज

अंकुरित अनाज सेहत और पौष्टिकता से भरपूर हैं। इसमें मुंग, काले चने, मोठ, गेंहूं, दालें, मटर, मैथीदाना आदि शामिल किए जा सकते हैं। इन अनाजों को अंकुरित करने के लिए रात भर पानी में भिगोना होता है, जिससे सुबह इनमें अंकुरण फुट पड़ता है। विटामिन ए, बी, सी व ई की भरपूर मात्रा इन अंकुरित अनाजों में होती है, इसके साथ ही कई प्रकार के पौष्टिक तत्वों का इनमें समावेश होता है। इनमें कई प्रकार के एंटी ऑक्सीडेंट भी पाए जाते हैं, जिसकी वजह से रोगप्रतिरोधक क्षमता में वृध्दि होती है।

Also Read-बिहार के शिव भक्त की अनूठी भक्ति, ओंकारेश्वर से उज्जैन तक कर रहा दंडवत यात्रा

कुछ सावधानियां भी हैं आवश्यक

अंकुरित अनाज का सेवन यूँ तो सेहत के लिए अत्यंत ही फायदे मंद माना गया है, परन्तु कुछ सावधानियों का ध्यान रखना इसमें बहुत ही जरूरी है वरना इसके नुकसान भी उठाने पड़ सकते हैं। वैसे तो इसका सेवन कच्चे रूप में किया जाना चाहिए था, परन्तु आज के युग के पाचनतंत्र के हिसाब से इसका उपयोग उबाल कर या हल्का पका कर ही करें तो बेहतर है। कच्चे अंकुरित अनाज में नमी की वजह से बैक्टीरिया पनपने का खतरा रहता है, उबालने या पकाने से जो दूर हो जाता है। इसप्रकार सावधानियों के साथ इसका सेवन बड़ी से बड़ी बीमारी में कारगर सिद्ध हुआ है।