राजस्थान की राजनीति में घमासान रुकने का नाम नहीं ले रही थी। दरअसल पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रशंसा पाने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने गहलोत की प्रशंसा पर प्रतिक्रिया देते हुए पायलट ने इसे दिलचस्प घटनाक्रम बताया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने इसी प्रकार सदन में गुलाम नबी आजाद की तारीफ की थी। उसके बाद क्या घटनाक्रम पैदा हुआ, यह सबने देखा है। यह दिलचस्प घटनाक्रम है और इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए।

बता दें कि गुलाम नबी आजाद ने 26 अगस्त को राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। 25 सितंबर को कांग्रेस ने जयपुर में विधायक दल की बैठक बुलाई थी, लेकिन यह बैठक नहीं हो पाई। दरअसल, गहलोत के वफादार मंत्रियों और विधायकों ने एक समानांतर बैठक कर दिल्ली से पहुंचे पर्यवेक्षकों को खाली हाथ लौटा दिया था।

हिमांचल में बनेगी कांग्रेस सरकार – सचिन पायलट

इस मामले में कार्रवाई की मांग करते हुए पायलट ने कहा कि जिन तीन लोगों को नोटिस भेजे गए थे, उनके खिलाफ शीघ्र निर्णय लिया जाना चाहिए। पार्टी का अनुशासन सब पर समान लागू होना चाहिए। ऐसे में सावल उठता है कि सितंबर में हुई सियासी उठापटक के बाद कांग्रेस ने कहा था कि इस बात का फैसला जल्द हो जाएगा कि गहलोत मुख्यमंत्री पद पर बने रहेंगे या नहीं।

Also Read: T20 World Cup 2022 : भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी कर जीत की अपने नाम, ये खिलाड़ी रहा विजेता का हीरो

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए पायलट ने कहा कि राजस्थान में अनिर्णय की जो स्थिति बनी हुई है, उसे दूर करने का समय आ गया है और बहुत जल्द पार्टी इस पर कार्रवाई करेगी। साथ ही पायलट ने यह भी उम्मीद जताई कि हिमाचल प्रदेश और गुजरात में कांग्रेस की सरकार बनेगी।