प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को इंडोनेशिया के बाली का दौरा करेंगे। इस दौरान वह बाली में आयोजित होने वाली 17वीं G-20 शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे। विदेश मंत्रालय ने यह जानकारी दी है। विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने बताया कि बाली शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी G-20 में शामिल अन्य नेताओं के साथ वैश्विक अर्थव्यवस्था, ऊर्जा, पर्यावरण, कृषि, स्वास्थ्य और डिजिटल परिवर्तन सहित समकालीन प्रासंगिकता के प्रमुख मुद्दों पर विचार-विमर्श भी करेंगे।

आपको बता दें पीएम मोदी G20 और आमंत्रित देशों के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के नेताओं के साथ औपचारिक और अनौपचारिक बातचीत करेंगे। इस कड़ी में ब्रिटेन, फ्रांस, अमेरिका, सिंगापुर, ऑस्ट्रेलिया समेत आठ से अधिक देशों के नेताओं के साथ पीएम की द्विपक्षीय बैठकों की संभावना है। इस बार जी-20 शिखर सम्मेलन का थीम है ‘रिकवर टूगेदर, रिकवर स्ट्रॉन्गर’ (Recover Together, Recover Stronger) यानी एक साथ उभरें, मजबूत बनकर उभरें।

शिखर सम्मेलन की खास बातें

  • बाली शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए जी20 सदस्य देशों, अतिथि देशों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के प्रमुख प्रत्यक्ष पहुंच रहे हैं. सम्मेलन में G-20 संगठन और भारत की G-20 प्रेसीडेंसी के बारे में बाली घोषणा पत्र पर बातचीत चल रही है। G20 नेताओं के इस बैठक में इस पर मुहर लगने की उम्मीद है. G-20 की अध्यक्षता के दौरान, भारत पूरे देश में 32 विभिन्न क्षेत्रों में लगभग 200 बैठकें करेगा।
  • जी-20 अंतरराष्ट्रीय आर्थिक सहयोग का प्रमुख मंच है जो वैश्विक जीडीपी के लगभग 85%, वैश्विक व्यापार के 75% से अधिक और दुनिया की लगभग दो-तिहाई आबादी का प्रतिनिधित्व करता है।
  • G20 की अध्यक्षता भारत के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को एक सार्थक नेतृत्व और बेहतर मार्गदर्शन प्रदान करने का एक अच्छा मौका है, G-20 प्रेसीडेंसी भारत के लिए दुनिया के बेहतरी को शक्ल देने, भारतीय टच देने और वैश्विक बिरादरी में अपनी धाक जमाने का भी अच्छा अवसर है।
  • G-20 क़ई अध्यक्षता के दौरान भारत समावेशी और लचीली विकास व्यवस्था, ग्रीन डेवलपमेंट, मिशन LiFE, तकनीकी बदलाव, महिलाओं को आगे रखने वाले विकास, बहुपक्षीय सुधार जैसे अंतरराष्ट्रीय महत्व के मुद्दों पर वैश्विक एजेंडा की शक्ल तय करने का एक मौका देगा।
  • अगले साल होने वाला G-20 शिखर सम्मेलन, भारत में होगा जो देश का अब तक का सबसे हाई प्रोफ़ाइल अंतर्राष्ट्रीय आयोजन होगा।
  • भारत की G20 अध्यक्षता का लोगो, थीम और वेबसाइट हाल ही में प्रधानमंत्री ने 8 नवंबर 2022 को लॉन्च किया. यह भारत के संदेश और दुनिया के लिए व्यापक प्राथमिकताओं को साफ जाहिर करता है। लोगो और थीम मिलकर भारत की G-20 अध्यक्षता का एक शक्तिशाली संदेश देते हैं, जो दुनिया में सभी के लिए न्यायसंगत और समान विकास के लिए प्रयास करने का है। क्योंकि अशांति और अस्थिरता वाले इस समय में भी भारत स्थायी, समग्र, जिम्मेदार और समावेशी तरीके से आगे बढ़ने की बात करता है।

Also Read: Wedding के बाद आप भी कर रहें है Honeymoon का प्लान, पार्टनर के लिए भारत ये खूबसूरत जगहें रहेंगी परफेक्ट

G20 की अध्यक्षता भारत के लिए अमृतकाल की शुरुआत का भी प्रतीक है। भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ से शुरू होकर देश की आज़ादी के शताब्दी वर्ष तक एक भविष्य की तरफ बढ़ती हुई और समृद्ध, समावेशी, विकसित समाज बनाने की कोशिश है।