भोपाल न्यूज़। मध्य प्रदेश के किसान मंत्री कमल पटेल पर उन्ही की विधानसभा के एक किसान ने आरोप लगाया है। किसान ने बताया की उनके बेटे की जमानत एसडीएम कोर्ट से होना है। लेकिन प्रदेश मंत्री बीच में रोड़ा बन रहे है। उनका बेटा आम आदमी पार्टी से हरदा जिले का जिलाध्यक्ष है। मेरा बेटा जनहित के लिए लगातार संघर्ष करता है।

राजनीतिक रंजिश के कारण कृषि मंत्री कमल पटेल मेरे बेटे की जमानत नहीं होने दे रहे हैं। जबकि बेटे पर 151 की धारा लगी है, जिसकी जमानत एसडीएम कोर्ट से ही होनी है। हालांकि इस मामले में मंत्री पटेल का तर्क है किसान कांग्रेसियों के बहकावे में आ रहे हैं।

क्या बताया किसान ने

किसान दीपचंद्र जाट ने बताया, मेरे बेटे आनंद जाट ने हरदा-खिरकिया मार्ग जर्जर होने के कारण बीते एक साल में 108 लोगों की वाहन दुर्घटना में मौत की जानकारी को लेकर सोशल मीडिया पर कमेंट्स किया था। आनंद की इस बात को समूचे हरदा के लोगों ने सराहा, बस यही बात कृषि मंत्री पटेल को नागवार गुजर गई।

Also Read : केएल राहुल और अथिया शेट्टी की शादी में कई स्टार होगे शामिल, इस अंदाज में होगी मेहमान नवाजी

मेरे बेटे की बढ़ती लोकप्रियता देख उन्होंने झूठे केस में आनंद को फंसा दिया। आनंद को धारा 151 में गिरफ्तार कर जिला जेल भेजा गया है। किंतु पांच दिनों बाद भी एसडीएम न्यायालय से जमानत नहीं दी जा रही है।

बेटे को जेल में रहे है धमकाया

किसान ने आरोप लगते हुए बताया कि, बेटे की जमानत के लिए कई बार कलेक्टर व एसडीएम से गुहार लगा चुके हैं। फिर भी जमानत नहीं मिल रही है। इतना ही नहीं मेरे बेटे को जेल में धमकाया जा रहा है। प्रदेश के कृषि मंत्री पटेल अधिकारी पर दबाव बना रहे है, ताकि उसे जमानत नहीं दी जाए। जिले में लोगों के मौलिक अधिकारों का खुलेआम हनन हो रहा है।

ये कहना है पटेल का

वहीं इस मामले में कृषि मंत्री पटेल का कहना है कि इस मामले में से उनका कोई लेना-देना नहीं है। आनंद की जमानत पर मैंने कोई आपत्ति नहीं की।. आनंद का परिवार कांग्रेसियों के बहकावे में आकर मेरे ऊपर बेबुनियाद आरोप लग रहा है।