इस बदलते दौर में चोरी करने वाले भी शातिर हो गए है। मुंबई पुलिस ने एटीएम से ठगी करने वाले ठग को किया गिरफ्तार। जो बेहद ही होशियारी से एटीएम ठगी को अंजाम देता था। यह ठग एटीएम मशीन में चिप या पट्टी लगाकर फ्रॉड को अंजाम देता था। हालांकि मुंबई पुलिस के एक कांस्टेबल के सामने उसकी चालाकी पकड़ी गई और उसे रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस के मुताबिक यह ठग अब तक लाखों रुपए की ठगी को अंजाम दे चुका है।

ATM मशीन से छेड़छाड़

पुलिस की गिरफ्त में आया 35 वर्षीय अखिलेश पासवान बिहार का रहने वाला है और पेशे से इलेक्ट्रिकल एक्सपर्ट है। अखिलेश अपने इस हुनर का इस्तेमाल लोगों को ठगने के लिए कर रहा था। एटीएम मशीन से छेड़छाड़ करने में इसने महारत हासिल कर ली थी और इसी के सहारे लोगों को चूना लगा रहा था।

इस प्रकार निकालता था पैसे

अखिलेश लोगों को ठगने के लिए एटीएम मशीन में प्लास्टिक की पट्टी या चिप लगा देता था। एटीएम मशीन रूम खाली देखकर वह अंदर घुसता और मशीन में पैसे निकलने वाली जगह पर प्लास्टिक की पट्टी और चिप चिपका देता था। यह चिप ऐसी सफाई से चिपकाई जाती थी कि किसी को भी नहीं पता चलता कि पैसे आने की जगह रोकी गई है. ऐसे में कैश ड्राइवर से पैसे बाहर नहीं निकलते और अंदर ही रुक जाते।

सारे पैसे बाहर

कोई भी व्यक्ति पैसे निकालने के लिए एटीएम इस्तेमाल करता तो ट्रांजैक्शन पूरा होने के बावजूद पैसे बाहर नहीं आते। उस व्यक्ति को लगता कि शायद मशीन खराब है और फिर उसके जाने के बाद अखिलेश एटीएम सेंटर में जाता और पट्टी हटाकर रुके हुए सारे पैसे बाहर निकाल लेता था।

पुलिस ने कई महिनो तक किया पिछा

पुलिस के मुताबिक, अखिलेश पिछले कई महीनों से मुंबई और आस पास के एटीएम सेंटर में कुछ इसी तरीके से फ्रॉड कर रहा था। पुलिस की पकड़ा से बचने के लिए वह एक एटीएम सेंटर में दो बार से ज्यादा फ्रॉड को अंजाम नहीं देता और हमेशा देर शाम या रात में ही एक्टिव होता था।

पुलिस ने आरोपी के पास से 11 प्लास्टिक पट्टी, कैंची, फेविस्टिक सहित अन्य सामग्री जब्त की हैं। पुलिस जांच में पता चला है कि आरोपी पिछले कई महीनों से अलग-अलग जगहों पर इस तरह से ठगी को अंजाम दे रहा था। इसके खिलाफ और भी पुलिस स्टेशन में मामले दर्ज़ हैं।