सावन के आखिरी सोमवार को महासंयोग में करें ये उपाय, मिलेगा मनचाहा फल

0
122
shiva somwar-min

इस साल सावन में एक से बड़ कर एक महायोग बन रहे हैं। ऐसा ही एक खास योग सावन के आखिरी सोमवार के दिन बन रहा हैं। इस साल सावन के चारों सोमवार को महायोग बन रहे हैं। सावन का आखिरी सोमवार कल हैं। इस दिन शिव का ही खास व्रत भी हैं, इस दिन प्रदोष व्रत हैं जो कि शिव के भक्तों लिए सबसे खास माना जाताहैं।

इस दिन व्रत और पूजन करने से आप शिव को प्रसन्न कर अपनी हर मनोकामनाओं को पूरा कर सकते हैं। हमेशा बेचैन और चंचल चित रखने वाले लोगों के लिए यह व्रत विशेष फलदायी होता है। इस व्रत को करने वाले लोगों को जीवन में कभी हार का सामना नहीं करना पड़ता और सभी इच्छाएं पूरी होती हैं।

ऐसे करें पूजन 

प्रदोष व्रत की पूजा प्रदोष काल में ही की जाती हैं। प्रदोष काल दरअसल उस समय को कहते हैं, जब सूर्यास्त तो हो गया हो, लेकिन रात नहीं हुई हो, यानी की संध्या का समय। सोम प्रदोष व्रत के दिन इसी समयावधि के दौरान भगवान शंकर की विधिवत पूजा की जाती है।

मान्यता हैं कि यह व्रत सभी व्रतों में महान हैं और इससे सारी मनोकामनाएं भी पूर्ण हो जाती। इस दिन संध्या के समय विधि वत शिव की पूजा की जाती है। आप चाहे तो शिव मंदिर में भी पूजन कर सकते हैं। यदि मंदिर ना जा सके तो घर में ही शिवलिंग की पूजा करें।

1- इस दिन सुबह जल्दी उठ कर स्नान कर भगवान शंकर को बेलपत्र, गंगाजल, अक्षत, धूप, दीप आदि चढ़ाएं और पूजा करें।

2- इसके बाद मन में इस व्रत को रखने का संकल्प लें।

3- इसी शाम को दोबारा स्नान कर भोलेनाथ की पूजा करें और दीप जलाएं। शाम को प्रदोष व्रत कथा पढ़ें और फिर व्रत को खोले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here