बेंगलुरु। गुरुवार को भारत सरकार में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आर्म्ड फोर्स वेटरन डे के अवसर पर बेंगलुरु पहुंचे। यहां उन्होंने पड़ोसी मुल्क चीन को चेतावनी दी है। उन्होंने साफ किया है कि कोई भी ताकत हमारे आत्मसम्मान पर चोट पहुंचाएगी, तो हमारी सेना मुंहतोड़ जवाब देगी। साथ ही उन्होंने पूर्व सैनिकों के लिए कई घोषणाएं भी की हैं।

बेंगलुरु स्थित भारतीय वायु सेना के एचक्यू ट्रेनिंग कमांड में आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कार्यक्रम को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि, ‘हम युद्ध नहीं चाहते, लेकिन अगर कोई महाशक्ति हमारे आत्म-सम्मान को ठेस पहुंचाना चाहती है तो हमारे सैनिक मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम हैं।’ राजनाथ सिंह ने साफ साफ कहा कि, ‘भारत किसी के भी साथ विवाद नहीं चाहता हैं।’ उन्होंने कहा कि हम शांति और दोस्ती का समझौता चाहते हैं, क्योंकि यह हमारे खून में है।

साथ ही उन्होंने कहा कि ‘हमने HAL से 83 स्वदेशी एलसीए तेजस (Tejas) लड़ाकू विमानों के अधिग्रहण को मंजूरी दे दी है।’ राजनाथ सिंह ने कहा, ‘इस फैसले से देश में 50 हजार से ज्यादा नौकरियां तैयार होंगी।’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी ने इस डील पर मुहर लगा दी है।

सम्बोधन के दौरान राजनाथ सिंह ने कहा कि, ‘मेरा मानना है कि एक बार कोई सैनिक बनता है, तो वह हमेशा सैनिक होता है। समाज को सशस्त्र बलों के वरिष्ठ सैनिकों से प्रेरणा मिलती है।’ साथ ही भारतीय वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने कहा कि भारतीय लड़ाकू विमान तेजस चीन और पाकिस्तान के संयुक्त JF-17 फाइटर से ज्यादा आधुनिक और बेहतर है। उन्होंने कहा, ’83 विमानों का ऑर्डर बड़ा है. जब इस तरह का ऑर्डर अगले 8-9 सालों में आकार लेता है, तो पूरा इकोसिस्टम तैयार हो जाता है।’