ग्वालियर में कांग्रेस नेता ने पत्नी को मारी गोली, घटना को अंजाम देकर मौके से हुआ फरार

ग्वालियर में शक के आधार पर कांग्रेस नेता ने अपनी पत्नी की गोली मारकर हत्या कर दी है. आग बबूला हुए आरोपी ने बच्चों के सामने ही इस भयानक घटना को अंजाम दिया और मौके से फरार हो गया.

ग्वालियर के कांग्रेस नेता ऋषभ भदौरिया से जुड़ी एक खबर सामने आई है, जिसके मुताबिक उसने शंका के चलते अपनी पत्नी भावना की गोली मारकर हत्या कर दी है. जिस समय भदौरिया ने इस घटना को अंजाम दिया उस समय उनके दोनों बच्चे पास के ही बिस्तर पर सो रहे थे. पहले पति पत्नी में खूब झगड़ा हुआ इसके बाद भदौरिया आग बबूला हो गया तो पत्नी अपनी जान बचाने के लिए बाहर की और भागी, लेकिन आरोपी ने सिर में गोली मारकर उसे मौत के घाट उतार दिया.

बता दें कि आरोपी कांग्रेस का पूर्व प्रवक्ता रह चुका है. जान पहचान वालों का कहना है कि पिछले 1 महीने से वह पत्नी के साथ विवाद कर रहा था. उसे शक था कि उसकी पत्नी भावना उससे बहुत सी बातें छुपाती है. वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी हथियार सहित गायब हो गया है.

Must Read- RBSE 12th Result: जारी हुआ आर्ट्स का रिजल्ट, 96.33 प्रतिशत स्टूडेंट पास, लड़कियों ने मारी बाजी

यह घटना ग्वालियर के रामनगर के थाटीपुर इलाके में हुई. यहां रहने वाले ऋषभ सिंह भदौरिया आदतन अपराधी है. रात 3:00 बजे उसने अपनी पत्नी भावना भदौरिया से लड़ाई झगड़ा शुरू कर दिया. उसे यह शक था कि भावना उससे कुछ छुपा रही है. झगड़ा करते हुए ऋषभ ने जोर-जोर से चलाना शुरु कर दिया. आवाज सुनकर पास में सो रहे दोनों बच्चे उठ गए. लड़ाई की गहमागहमी में नेता ने अपनी पत्नी पर हथियार उठा लिया. बचने के लिए भावना रूम से निकलकर बाहर आंगन में पहुंची, तभी ऋषभ ने गोली चला दी. सिर में गोली लगने से वह वहीं ढेर हो गई. इसके बाद आरोपी ने अपना जरूरी सामान लिया और मौके से फरार हो गया.

घटना की जानकारी ऋषभ के पिता कृष्णकांत ने पुलिस को दी. प्रारंभिक जांच में यही सामने आया है कि शक के चलते ऋषभ ने अपनी पत्नी की हत्या कर दी है. मामले की असलियत ऋषभ की गिरफ्तारी के बाद ही सामने आएगी. महिला के शव को कब्जे में लेकर पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और जांच शुरू कर दी है.

ऋषभ आदतन अपराधी है और उसका अपराधिक रिकॉर्ड भी काफी लंबा है. 2001 में उस पर बहन की हत्या का आरोप भी लगा था. इसके बाद एक लूट में उसका नाम सामने आया था. 2018 में ग्वालियर में जातिगत हिंसा को लेकर भी दो मामले उस पर दर्ज किए गए थे. 2020 में उस पर जिला बदर की कार्रवाई का नोटिस जारी किया गया था. इसके अलावा लूट और 4 हत्याओं के केस उस पर पहले से दर्ज है.