कांग्रेस की मांग : कन्या विवाह योजना में हो रहे फर्जीवाड़े की हो CBI जांच

wedding

भोपाल : प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा(Congress media coordinator Narendra Saluja) ने भाजपा सरकार पर आरोप लगाया है कि प्रदेश में संचालित विभिन्न योजनाओं को पलीता लगाकर जमकर फर्जीवाड़े की शिकायतें निरंतर सामने आ रही हैं। चाहे वह कन्या विवाह योजना हो या अन्य योजना हो, एक भी ऐसी योजना नहीं है जिसमें फर्जीवाड़ा सामने न आ रहा हो।

Must Read : Indore News : मेट्रो डिपो में बाधक भवन व निर्माणकर्ताओ को होंगे नोटिस जारी

सलूजा ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री सरकार की योजनाओं का भले ही महिमा मंडन करते थकते नहीं हों, लेकिन सच्चाई यह है कि जनता के लिये चलायीं जा रही अधिकांश योजनाएं केवल कागजी खानापूर्ति के लिये ही चलायी जा रही हैं। धरातल पर इन योजनाओं की हकीकत कुछ ओर ही है। इनके नाम पर जमकर फर्जीवाड़ा(forgery) किया जा रहा है।

सलूजा ने कहा कि मध्यप्रदेश में संचालित हर योजना में भ्रष्टाचार के मामले अब आम बात हो गई है। वहीं प्रदेश में संचालित कन्या विवाह योजना(girl marriage scheme) में घोटाले के मामले निरंतर सामने आ रहे हैं। मप्र के सिरोंज में कोरोना काल(Corona) में 5000 से अधिक शादियों के नाम पर 30 करोड़ रूपये का घोटाला किया गया और अब हाल ही में राजगढ़ में भी इसी तरह का मामला सामने आया है। यहीं नहीं मध्य प्रदेश के कई जिलों से भी इस योजना में फर्जीवाड़े एवं घोटाले के मामले सामने आ रहे हैं।

Must Read : सैमसंग स्मार्टफोन गैलेक्सी एस 22 अल्ट्रा भारत में लांच..

सलूजा ने बताया कि कमलनाथ सरकार ने कन्या विवाह योजना के तहत 28 हजार रूपये की राशि को बढ़ाकर 51 हजार रूपये किया था। भाजपा सरकार आने के बाद से इस राशि को घटाकर पुनः 28 हजार रूपये कर दिया गया। शिवराज सरकार बनने के बाद से ही इस योजना में निरंतर घोटाले, फर्जीवाड़े के मामले सामने आ रहे हैं। इस योजना में निम्न स्तर पर जो फर्जीवाड़ा हो रहा है उसकी राशि ऊपर तक पहुंचाई जा रही है।

इस फर्जीवाड़े में कई बड़े-बड़े मगरमच्छ भी लिप्त हैं। अभी तो कुछ छोटी-छोटी मछलियों को ही पकड़ा गया है, बड़े-बड़े मगरमच्छ अभी भी गिरफ्त से बाहर है। सलूजा ने कहा कि इस कन्या विवाह योजना में हो रहे फर्जीवाड़े को लेकर पूरे मामले की जांच सीबीआई से करायी जानी चाहिए, ताकि इसके पीछे छिपे वास्तविक और बड़े मगरमच्छों का खुलासा हो सके और वे पकड़ में आ सके।