बिजनेस

पानी की कीमत में दूध बेचने को मजबूर किसान

इंदौर: देश में लगे लॉकडाउन को दो महीने हो चुके हैं। ऐसे में बाजार पूरी तरह से बंद है। आम आदमी से लेकर किसानों तक के सामने अब आर्थिक मुसीबत खड़ी हो गई है। अब सबसे ज्यादा मुसीबत दूध उत्पादक किसानों के सामने हैं। दरअसल बाजार बंद होने से दूध का इस्तेमाल बहुत कम हो गया है। दूध से बनने वाली लस्सी, पनीर, बटर, और अन्य प्रकार की सामग्री भी नहीं बन रही है जिससे दूध की डिमांड काफी कम हो गई है।

हालत यह है कि अब किसानों को 20 से 22 रुपए प्रति लीटर में ही दूध बेचना पड़ रहा है। पिछले 2 महीने से किसान पानी की कीमत में दूध बेच रहे हैं। इंदौर में सांची दूध सबसे बड़ी यूनिट है। लॉकडाउन मव सांची का दूध खरीदने की क्षमता कम हो गई है क्योंकि मार्केट में दूध और उससे बने प्रोडक्ट नहीं बन रहे हैं। साथ ही साँची ने अभी तक दूध का 12 सौ टन पाउडर, 900 टन बटर बनाकर स्टॉक कर लिया है जिसकी कीमत करीब 64 करोड़ रूपयें बताई जा रही है।

अब सांची के सामने यह स्टॉक खत्म करना बड़ी मुसीबत बनता जा रहा है। इंदौर से लगे बेटमा, घटाबिल्लौद देपालपुर, गौतमपुरा, हातोद चंद्रावतीगंज, सांवेर आदि क्षेत्रों के इंटीरियर के गांव में दूध का व्यवसाय करने वाले किसान बड़े परेशान हैं।

Related posts
scroll trendingबिजनेसबैंक/पैसा

सोने-चांदी के दामों में आई गिरावट, जानिए आज की कीमत

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के मामलों में…
Read more
scroll trendingबिजनेसबैंक/पैसा

अनुमान से बेहतर होगी इकोनॉमी, सरकार उठा रही बड़े कदम : केवी कामथ

नई दिल्ली। कोरोना के कारण भारत ही नहीं…
Read more
breaking newsscroll trendingअन्यबिजनेस

बजाज में कोरोना पॉज़िटिव कर्मचारी का अंबार, कंपनी बंद करने को तैयार नहीं प्रबंधन

मुंबई। यूं तो कोरोना से पूरा देश ही आज…
Read more
Whatsapp
Join Ghamasan

Whatsapp Group