Breaking News

राजस्थान में महिला उम्मीदवारों पर दांव लगाने से कतराते रहे हैं प्रमुख दल

Posted on: 27 Apr 2019 13:59 by Parikshit Yadav
राजस्थान में महिला उम्मीदवारों पर दांव लगाने से कतराते रहे हैं प्रमुख दल

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस राजस्थान में महिला प्रत्याशियों पर दांव लगाने से कतराती रही हैं। इस बार कांग्रेस ने प्रदेश में लोकसभा की कुल 25 सीटों में से केवल चार और भाजपा ने केवल तीन सीटों पर महिलाओं को टिकट दिया है। 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने चार सीटों जयपुर ;शहर जयपुर ;ग्रामीण नागौर और दौसा सीट पर महिला उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारा हैए वहीं भाजपा ने राजसमंदए भरतपुर और दौसा सीट पर महिला उम्मीदवारों को टिकट दिया है। लोकसभा चुनाव में राज्य में महिलाओं को कम प्रतिनिधित्व देने के मामलें में पीपुल्स यूनियन ऑफ सिविल लिबर्टीज ;पीयूसीएल की कविता श्रीवास्तव ने बताया कि राजनीति में महिलाओं का प्रतिनिधित्व बहुत कम और शर्मनाक है और इसके लिए सभी राजनीतिक पार्टियां जिम्मेदार हैं। देश में केवल तृणमूल कांग्रेस ;टीएमसी ने सबसे ज्यादा महिलाओं को प्रतिनिधित्व दिया है। उन्होंने कहा कि महिलाओं को आरक्षण देने लिये जब तक कानून नहीं बनेगा कोई भी पार्टी महिलाओं को उचित प्रतिनिधित्व नहीं देगी क्योंकि कोई भी राजनैतिक पार्टी महिलाओं के साथ सत्ता को साझा नहीं करना चाहती। उन्होंने कहा कि राजनैतिक पार्टियों की इच्छा शक्ति नहीं होने के कारण राजनीति में महिलाओं को उचित प्रतिनिधित्व नहीं मिल पा रहा हैं और जब तक इस संबंध में कानून नहीं बनेगा तब तक महिला वर्ग इससे वंचित रहेगा।

33 प्रतिशत आरक्षण नहीं मिलने के लिए सभी राजनीतिक पार्टियों को जिम्मेदार बताया

कविता श्रीवास्तव महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण नहीं मिलने के लिए सभी राजनीतिक पार्टियों को जिम्मेदार बताया है। राजस्थान महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष और भाजपा नेता सुमन शर्मा ने बताया कि महिलाओं को जब तक 33 प्रतिशत आरक्षण नहीं मिलेगाए तब तक महिलाओं को विधानसभा या लोकसभा चुनाव में उचित प्रतिनिधित्व नहीं मिलेगा। आज भी 16वीं लोकसभा में महिलाओं का प्रतिनिधित्व 11.3 प्रतिशत है। कांग्रेस ने जयपुर ;शहर से जयपुर की पूर्व मेयर ज्योति खंडेलवाल को भाजपा के रामचरण बोहरा के सामनेए जयपुर ;ग्रामीण से ओलंपियन कृष्णा पूनिया को केंद्रीय मंत्री और ओलंपियन राज्यवर्धन सिंह राठौड़ के सामनेए नागौर से ज्योति मिर्धा को भाजपा समर्थित राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और विधायक हनुमान बेनीवाल के सामने और दौसा सीट पर सविता मीणा को चुनाव मैदान में उतारा है। उनका मुकाबला भाजपा की पूर्व सांसद जसकौर मीणा से होगा। भाजपा ने राजसमंद लोकसभा सीट पर सवाई माधोपुर की पूर्व विधायक और जयपुर राजघराने से संबंध रखने वाली दीया कुमारी को चुनाव मैदान में उतारा है। उनका मुकाबला कांग्रेस के उम्मीदवार देवकी नंदन गुर्जर से होगा।

दो करोड़ 32 लाख 14 हजार 231 महिला मतदाता

राज्य में कुल चार करोड़ 84 लाख 79 हजार 229 मतदाताओं में से दो करोड़ 32 लाख 14 हजार 231 महिला मतदाता हैं वहीं दो करोड़ 52 लाख 64 हजार 998 पुरुष मतदाता हैं। पिछले दो लोकसभा चुनावों में महिला मतदाताओं के प्रतिशत में भी बढ़ोतरी हुई है। 2009 के लोकसभा चुनाव में महिलाओं के मतदान का प्रतिशत 44.85 रहा थाए जो 2014 में बढ़ कर 61.39 प्रतिशत हो गया। 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने छह महिला उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारा था। हालांकिए उनमें से एक भी चुनाव नहीं जीत पाई थीं वहीं भाजपा की एकमात्र महिला उम्मीदवार संतोष अहलावत ने झुंझुनूं से जीत दर्ज की थी। हालांकिए पार्टी ने इस बार अहलावत का टिकट काट दिया है। पिछले दो लोकसभा चुनावों की बात की जाएए तो 2009 में 31 महिलाओं ने भाग्य आजमायाए जिनमें से तीन विजयी रहीं। इसके बाद 2014 में 27 महिलाओं ने चुनाव लड़ाए जिनमें से केवल एक महिला प्रत्याशी ने विजय हासिल की।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com