कश्मीर में हो रही लगातार बर्फाबारी के कारण सेना के तीन जावानों की शहीद होने की जानकारी मिली है। जिन जवानों की शहादत हुई है, वें 56 राष्ट्रीय राइफल्स के जवान है। वह शुक्रवार को माछिल इलाके में ड्यूटी कर रहे थे। ड्यूटी के दौरान जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास हिमस्खलन में सेना के जवान फंस गए थे। सेना के जवानों के शव बरामद किए गए हैं। खराब मौसम की स्थिति में बर्फीली ऊंचाइयों और दुर्गम इलाकों में ड्यूटी के दौरान सर्वोच्च बलिदान देने वाले बहादुरों की पहचान सौविक हाजरा, मुकेश कुमार और गायकवाड़ मनोज लक्ष्मण राव के रूप में की गई।

हिमस्खलन की चपेट में बंकर

सर्दी के बढ़ते ही कश्मीर में भारी बर्फबारी शुरू हो गई है. कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के माछिल में सेना का बंकर हिमस्खलन की चपेट में आ गया। इसमें सेना के 3 जवानों की मौत हो गई। सेना ने रेस्क्यू कर शवों को निकाला. तीनों शवों को 168 सैन्य अस्पताल दुर्ग मुल्ला भेजा गया है। इस हादसे के बाद सेना के उच्च अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए हैं. जवानों के परिजनों को घटना की सूचना दे दी गई है।

Also Read : महापौर भार्गव ने 17 करोड की लागत से बने सफाई व सीवर सेक्शन वाहनो का किया लोकार्पण, बोले – इंदौर को स्वच्छता अभियान के पैमाने को बनाये रखना हमारा लक्ष्य

कामेंग सेक्टर में भी हुआ था हिमस्खलन

गौरतलब है कि, फरवरी 2022 में भी अरुणाचल प्रदेश के कामेंग सेक्टर में हिमस्खलन में भारतीय सेना के सात जवान शहीद हो गए थे। तवांग जिले में हिमस्खलन की चपेट में आने के बाद सेना के जवान लापता हो गए थे। बाद में तलाशी अभियान के दौरान उनके शव बरामद किए गए। शहीद जवानों की पहचान हवलदार जुगल किशोर, गनर गुरबाज सिंह और राइफलमैन अरुण कट्टल, अक्षय पठानिया, विशाल शर्मा, राकेश सिंह और अंकेश भारद्वाज के रूप में हुई थी।