इंदौर। मध्यप्रदेश के इंदौर में आज से प्रवासी भारतीय सम्मेलन शुरू हो चूका है। वर्ष 2019 के बाद कोरोना महामारी के चलते पहली बार सम्मेलन भौतिक रूप से हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार, 9 जनवरी को 17वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन का शुभारंभ करेंगे, जबकि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू मंगलवार, 10 जनवरी को इसका समापन करेंगी।

प्रवासी भारतीय सम्मेलन में विदेश मंत्री एस जयशंकर, ऑस्ट्रेलियाई सांसद ज़नेटा मैस्करेनहास, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी और कई दिग्गज हस्तियां शामिल हुई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने युवा प्रवासी दिवस कार्यक्रम में जाने से पहले रेसीडेंसी के गार्डन में पौधारोपण किया।

Also Read – प्रवासी भारतीयों को संबोधित करते हुए अनुराग ठाकुर ने कहा- यहां आए हैं तो सराफा जरूर जाएं

ऑस्ट्रेलियाई सांसद ज़नेटा मैस्करेनहास ने कहा कि भारतीय समुदाय ऑस्ट्रेलिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाला डायस्पोरा है। प्रधान मंत्री एंथोनी अल्बानीस इस वर्ष के अंत में भारत का दौरा करना चाहते हैं। भारत विविधतापूर्ण देश है। भारतीय प्रवासी दुनिया में महान काम करना चाहते हैं।

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि महात्मा गांधी 108 साल पहले दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटे थे। भारत मानवता का 1/6वां हिस्सा है। भारतीय मूल के लोगों ने विदेशों में व्यावहारिकता दिखाई है। भारतीय प्रवासी युवाओं में विशेष और अद्वितीय गुण हैं।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) ने फ्रेंड्स ऑफ एमपी चैप्टर लीडर्स एवं डेलीगेट्स को संबोधित करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश देश का दिल है और आप दिल के टुकड़े हैं। अतिथियों के आगमन से मध्यप्रदेश आनंद, उल्लास और प्रसन्नता से भरा हुआ है। CM शिवराज ने कहा कि इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी क्षेत्रों के भारतीयों ने विदेशों में बड़ी उपलब्धि हासिल की है। कई भारतीय अब विदेशों में इन फर्मों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

विदेश मंत्री एस जयशंकर (External Affairs Minister S Jaishankar) ने कहा- यह एक ऐसा युग है जहां हम अपनी संभावनाओं के बारे में तेजी से आश्वस्त हैं और अंतरराष्ट्रीय समुदाय से जुड़ना चाहते हैं।