Apple देने जा रहा हैं, चीन को एक बड़ा झटका। जिससे आगे ये देखना दिलचस्प होगा की क्या भारत को मिल सकता है. इसका फायदा मीडिया सूत्रों के अनुसार, एप्पल कंपनी अपने प्रोडक्शन प्लांट को जल्द ही चीन से बाहर शिफ्ट कर सकती है. फ़िलहाल इसके पीछे के कारण कोरोना काल को बताया जा रहा है. अगर ऐसा होता है तो कोरोना की वजह से चीन को एक बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है.

Apple कंपनी जल्द ही चीन को बड़ा झटका देने की तैयारी कर रही हैं. एप्पल कंपनी अपने प्रोडक्शन प्लांट को चीन से बाहर शिफ्ट करने का प्लान बना रही हैं अगर ऐसा होता है, तो वाकई चीन के लिए ये एक बड़े झटके से कम नहीं होगा। और इसका फायदा भारत को भी मिल सकता है. हाल ही में कोरोना लॉकडाउन को लेकर चीन में लगातार झड़प चल रही थी.चीन के Zhengzhou ‘iPhone City’ प्लांट से वकर्स के प्रोटेस्ट की लगातार खबरें भी सामने आ रही हैं जिसको देखते हुए एप्पल कंपनी अपने प्रोडक्शन को एशिया के दूसरे मार्केट में शिफ्ट कर सकती है. ऐसे और भी कई कयास लगाए जा रहे हैं जिसके लिए कंपनी भारत या वियतनाम को सेलेक्ट कर सकती है.

Also Read-टंट्या मामा के बलिदान दिवस पर CM शिवराज ने कहा – लव जिहाद के खिलाफ नया कानून बनाया जाएगा

चीन के कई वर्कर्स करते हैं काम

द वॉल स्ट्रीट जर्नल के अनुसार, ऐपल ताइवान एसेंबली पर डिपेंडेंसी कम करने पर भी काम कर रहा है. इसको Foxconn टेक्नोलॉजी ग्रुप लीड करती है. आपको बता दें कि चीन के Zhengzhou में लगभग 3 लाख वर्कर्स Foxconn के इस फैक्ट्री में काम कर रहे हैं. इस फैक्ट्री में आईफोन के अलावा दूसरे ऐपल के प्रोडक्ट्स पर भी वर्क किया जाता है. मार्केट रिसर्च फर्म Counterpoint Research के अनुसार, Zhengzhou अकेले ही आईफोन प्रो लाइनअप का 85 प्रतिशत प्रोडक्शन करता है. लेकिन, नवंबर में में Zhengzhou शहर में स्थित इस आईफोन प्लांट में हिंसक झड़प की खबर भी सामने आई थी.

वायरल हुआ वीडियो

मीडिया सूत्रों के अनुसार सोशल मीडिया पर भी ऐसे कई पोस्ट वायरल हुए थे. जिसमे देखा जा सकता था कि China iPhone फैक्ट्री की कंडीशन को लेकर वर्कर्स रोड पर प्रोटेस्ट करते पाए गए थे.सैकड़ों प्रदर्शनकारियों ने Foxconn चीनी प्लांट को नुकसान भी पहुंचाया था. फ़िलहाल इसके पीछे कोरोना की वजह से फैक्ट्री में लागू हुए गाइडलाइन्स को बताई गई. सोशल मीडिया पर वायरल हुए कुछ वीडियो में वर्कर्स सीसीटीवी कैमरे को डंडे से तोड़ते फोड़ते नजर आए. स्थिति खराब होने पर Foxconn ने बयान जारी कर माफी भी मांगी. इस स्थिति के लिए एक टेक्निकल एरर को भी जिम्मेदार बताया गया हैं. वैसे एप्पल कंपनी ने हाल ही में स्वीकार भी किया है कि iPhone 14 Pro के बदलाव में देरी हो सकती है.फिलहाल कम कैपिसिटी के साथ आईफोन प्रो मॉडल के प्रोडक्शन का काम चल रहा है.